Followers

Showing posts with label HINDI POETRY. Show all posts
Showing posts with label HINDI POETRY. Show all posts

Saturday, October 14, 2017

MAA CHINTA KARTI HAI.../ माँ चिंता करती है...

Maa chinta karti hai..

Brush kiya?
tiffin liya?
homework kiya?
water bottle?
ID ?

Uff, ye maa bhi na.
Bekar ki chinta karti hai..

Neend achhi aayi thhi?
Besan se muhn dhona,
malai se bhi..
kisi se jhagra hua kya?
mood off hai bitiya?
kha le kuchh
tel malish kar doon?
chhoti bandh doon?

Uff ..
Maa chinta karti hai..

Ye pahan ke jayegi?
kiske saath?
kab loutogi bitiya?
kuch kha lena haan
paise daal diye hai
bag ke bheetar
phone karna haan bitiya
kya khayegi bata dena

Maa bohat chinta karti hai..

Vida honey wali hai
theek se kha le
aram kar le
ja shopping kar aa
babuji se jitne chahiye lele

Maa hai na, chinta karti hai..

Tabiyat theek hai beta?
bukhar hai kya?
kuchh khaya hai subah se?
bhejun kuchh?
kuchh dino ke liye aa ja
bata dena, kya khayegi
kha lena haan
pani bhi piya kar zyada
phal sabzi theek se
achcha rakhoon?
bye beta..

Sach
Maa hi chinta karti hai…

माँ चिंता करती है ...
ब्रश किया?
टिफ़िन लिया?
होमवर्क किया?
वॉटरबॉटल ?
आई डी?

उफ़्फ़, ये माँ भी न.
बेकार की चिंता करती है..

नींद अच्छी आई थी?
बेसन से मुँह धोना,
मलाई से भी..
किसी से झगड़ा हुआ क्या?
मूड ऑफ है बिटिया?
खा ले कुछ
तेल मालिश कर दूँ ?
चोटी बाँध दूँ ?

उफ़्फ़ ...
माँ चिंता करती है...

ये पहन के जायेगी?
किसके साथ?
कब लौटोगी बिटिया?
कुछ खा लेना हाँ ?
पैसे डाल दिए हैं..
बैग के भीतर.
फ़ोन करना हाँ बिटिया?
क्या खायेगी बता देना?

माँ बहुत चिंता करती है..

विदा होने वाली है,
जा ठीक से खा ले
आराम कर ले
जा शॉपिंग कर आ
बाबूजी से जितने चाहिए ले ले...

माँ है न, चिंता करती है

तबीयत ठीक है बेटा?
बुखार है क्या?
कुछ खाया है सुबह से?
भेजूँ कुछ?
कुछ दिनों के लिए आ जा
बता देना , क्या खायेगी
खा लेना हाँ?
पानी भी पिया कर ज़्यादा
फल सब्ज़ी ठीक से
अच्छा रखूँ?
बाय बेटा ..

सच
माँ ही चिंता करती है ..

#everydayisamothersday

DADI KE KISSON MEIN WOH LADKI DADI HI TOH THHI.../ दादी के किस्सों में वो लड़की दादी ही तो थी....


Aaj itne saalon baad
samajh mein baat aayi, ki
dadi ke kisson mein
woh ladki dadi hi toh thhi

Sar kataa rakshas jab
tang karta tha gaonwasi
ek ladki doston sang
usey maar bhagati

Lal Kamal Neel Kamal
aur woh mandir ka laddoo chor
ek dusht souteli maa
aur aansoon ponchhti dost

Dhoop mein baith achaar banati
anchal se nikalti tarey hazar
‘load-shedding’ jab ho jaye toh
chand se roshni laati udhaar

Aaj itne saalon baad
samajh mein baat aayi, ki
dadi ke kisson mein
woh ladki dadi hi toh thhi

Pandrah baras mein dulhan
khud ek gudiya si
jeevan nayiya uthal puthal
phir bhi jhansi-rani si

Aaj jise ham kahte ‘feminist’
hamne barson pahle dekhi thi
narebaji bina, chupchap,
hazar muddey suljhati thhi

Pandrah mein byahi
phir bhi thha aseem gyan
do haath kaaj anek
sansaar ki thhi jaan

Aaj itne saalon baad
achanak hua mahsoos
dadi se kabhi poocha hi nahin
kaisa tha bachpan, afsos

Aaj itne saalon baad
samajh mein baat aayi, ki
dadi ke kisson mein
woh ladki dadi hi toh thhi?....

आज इतने सालों बाद
समझ में बात आई, कि
दादी के किस्सों में
वो लड़की दादी ही तो थी

सर कटा राक्षस जब
तंग करता था गाँववासी
एक लड़की दोस्तों संग
उसे मार भगाती

लाल कमल नील कमल
और वो मंदिर का लड्डू चोर
एक दुष्ट सौतेली माँ
और आँसूं पोंछती दोस्त

धूप में बैठ अचार बनाती
आँचल से निकालती तारे हज़ार
‘लोड-शेडिंग’ जब हो जाये तो
चाँद से रोशनी लाती उधार

आज इतने सालों बाद
समझ में बात आई, कि
दादी के किस्सों में
वो लड़की दादी ही तो थी

पन्द्रह बरस में दुल्हन
ख़ुद एक गुड़िया सी
जीवन नईया उथल पुथल
फ़िर भी झाँसी-रानी सी

आज जिसे हम कहते ‘फेमिनिस्ट’
हमने बरसों पहले देखी थी
नारेबाजी बिना, चुपचाप,
हज़ार मुद्दे सुलझाती थी

पन्द्रह में ब्याही
फ़िर भी था असीम ज्ञान
दो हाथ काज अनेक
संसार की थी जान

आज इतने सालों बाद
अचानक हुआ महसूस
दादी से कभी पुछा ही नहीं
कैसा था बचपन, अफ़सोस

आज इतने सालों बाद
समझ में बात आई, कि
दादी के किस्सों में
वो लड़की दादी ही तो थी....

#Grandmasbedtimestories #thakumarjhuli #girlhood #summervacations #grandma #memories

Thursday, February 16, 2017

BACHPAN/ बचपन

Hai na
Bilkul zinda
Saans leta hua
Mera bachpan
Zahan mein, dil mein
Har saans ke saath
Dhadakta hua
Sundar sa bachpan...

Hai na
Ek bachpan aur bhi
Chai bechta hua
Gari saaf karta hua
Bartan maanjta hua
Bheekh mangta hua
Chori karta hua
Bandook chalata hua
Khud ko bechta hua....

Par
Saans leta hua
Dhadakta hua
Bilkul mere aur
Tumhare bachpan ki tarah.....

है न
बिलकुल ज़िंदा
सांस लेता हुआ
मेरा बचपन
ज़हन में, दिल में
हर साँस के साथ
धड़कता हुआ
सुन्दर सा बचपन।

है न
एक बचपन और भी
चाय बेचता हुआ
गाड़ी साफ़ करता हुआ
बर्तन माँजता हुआ
भीख माँगता हुआ
चोरी करता हुआ
बन्दूक चलाता हुआ
खुद को बेचता हुआ....

पर
साँस लेता हुआ
धड़कता हुआ
बिलकुल मेरे और
तुम्हारे बचपन की तरह....

#14thNovember

Sunday, August 09, 2015

EK KALASH BHAR... / एक कलश भर...



Haan bas isi pal ka,
Yahi jo tham gaya hai na,
Asamanjas mein hai thoda,
Isi pal ka tha intezar.
Us vednamaye hriday ko,
Sookhe thartharate
Pipasit hothon ko,
Ki kab ek boond,
Na na,
kewal ek kalash bhar
Megh ka prem,
Raktim karega
uske raktheen galon ko.
Prem bahayega
Uski dhamaniyon mein,
Aur bin kuch kahe
Bohat kuch kah jayegi
Uski zubaan.
Shayad ek poora upanyas !
Hai na wo pal
Abhi bhi thama sa??
Bhool gaya kya barasna
Uski ankhon mein doobke?
Ek kalash bhar ,
Bas..kafi hai...

हाँ बस इसी पल का,
यही जो थम गया है न,
असमंजस में है थोड़ा,
इसी पल का था इंतज़ार।
उस वेदनामय ह्रदय को,
सूखे थरथराते
पिपासित होठों को,
कि कब एक बूँद,
न न ,
केवल एक कलश भर
मेघ का प्रेम,
रक्तिम करेगा उसके
रक्तहीन गालों को।
प्रेम बहाएगा उसकी
धमनियों में,
और बिन कुछ कहे
बहुत कुछ कह जायेगी
उसकी ज़ुबान।
शायद एक पूरा उपन्यास !
है न वो पल
अभी भी थमा सा??
भूल गया क्या बरसना
उसकी आँखों में डूबके ?
एक कलश भर,
बस....काफ़ी है.....


(Asamanjas -indecision, dilemma
Vedna- pain
Thartharate- trembling
Pipasit- thirsty
Kalash- pitcher
Raktim- bright red
Dhamniyon- arteries
Upanyas- novel
Kafi- sufficient)

Sometimes, a moment filled with love, just a little, a pitcher full !!
Is enough to soothe the sad and aching heart.
This pure love can inundate this sad heart with so much inspiration and contentment that it can go ahead and write a beautiful novel ..not just a poem.
A pitcher full of love is all that a heart needs..
It is almost like the cathartic effect that rains  and rainbow have on parched and thirsty earth.. on us..

Saturday, December 13, 2014

SUNO JULAHE..../ सुनो जुलाहे.....


Suno julahe,
Ab aisi saree bunna
Tana ho sukh
Bana ho dukh
Ek adh kam zyada
Kar dena soot chahe
Kuch is tarah ki
Sukh nikhre zyada
Dukh nikhre kam
Suno,
Rang aise chunna
Ki vasan dhule toh
Sukh pheeka na ho
Ghul jaye wo rang
Jisse dukh nikhra ho.
Suno,
Pahnu jab aisi saree
Wazandar, bootiyon wali,
Lipte rahein tan se
Sukh aur dukh dono hi.
Mere hisse ki cheez
Chale mere saath hi.
Suno,
Jab mile yeh tan
paanch tatwon se
Dom ki domni ya maii
Jo bhi libaas yeh pahne
Dekhna julahe
Sukh wala soot
Nikhra hi rahe
Dukh wala chahe
Pheeka paddh jaye....



सुनो जुलाहे,
अब ऐसी साड़ी बुनना
ताना हो सुख
बाना हो दुःख
एक आध कम ज़्यादा
कर देना सूत चाहे
कुछ इस तरह कि
सुख निखरे ज़्यादा
दुःख निखरे कम।
सुनो,
रंग ऐसे चुनना
कि वसन धुले तो
सुख फ़ीका न हो
घुल जाए वो रंग
जिससे दुःख निखरा हो
सुनो,
पहनूँ जब ऐसी साड़ी
वज़नदार, बूटियों वाली
लिपटें रहें तन से
सुख और दुःख दोनों ही
मेरे हिस्से की चीज़
चले मेरे साथ ही
सुनो,
जब मिले यह तन
पाँच तत्वों से
डोम की डोमनी या माई
जो भी लिबास यह पहने
देखना जुलाहे
सुख वाला सूत
निखरा ही रहे
दुःख वाला चाहे
फ़ीका पड़ जाए....




https://youtu.be/4mGaTWrQtiQ

Listen O Master Weaver,
Weave such a saree
Whose warp is Sorrow
And the weft is Joy;
And weave in a few designs.
The threads such you make that 
Joy's beauty is enhanced
And Sorrow's less so. 

Listen,
Choose you such colours 
That when washed
Joy's colours don't fade
And those hues that Sorrow 
Made brighter
May they blend in 
With perfection.

Listen
When I wear this saree
Heavy, with many patterns, 
When this body is wrapped in 
Both Joy and Sorrow,
And these, part of my portion
Travel with me.

Listen
When this body is one with the five elements
The dom's wife or mother, 
Whosoever wears this garment 
Please O Weaver
Make sure that Joy's threads
Remain shining
Even if Sorrow's fade a little ...

Translation~ Gopali Chakraborty Ghosh

Saturday, November 08, 2014

NA KAVITA NA KAHANI / न कविता न कहानी...



Na kavita na kahani
Bas kuch shabd
Kuchh jatilta
Bolti hui khamoshi
Cheekhta hua soonapan.

Na kavita na kahani
Bas kuchh lafz
Kuchh uljhane
Kolahal mein chuppi
Bheed mein sannata.

Na kavita na kahani
Bas yun hi
Kuchh dil ka bojh
Ankhon se aansoo
Aansuon se syahi
Syahi se?
Na kavita, na kahani....

न कविता न कहानी
बस कुछ शब्द
कुछ जटिलता
बोलती हुई ख़ामोशी
चीख़ता हुआ सूनापन

न कविता न कहानी
बस कुछ लफ़्ज़
कुछ उलझनें
कोलाहल मेँ चुप्पी
भीड़ मेँ सन्नाटा

न कविता न कहानी
बस यूँ ही
कुछ दिल का बोझ
आँखों से आँसूं
आँसुओं से स्याही
स्याही से?
न कविता, न कहानी....


Sunday, October 26, 2014

SEEKH.../ सीख.....




Jitni bar toota hai dil hamara,
utni bar seekha hai hamne kuch naya.

जितनी बार टूटा है दिल हमारा,
उतनी बार सीखा है हमने कुछ नया...




Friday, September 26, 2014

SHABD ... / शब्द....


Shabd....
Bikhre huye yahan wahan
kahin kisi kagaz pe,
kisi kitaab ke akhiri panne par,
daraj ke kisi kone mein.
Dubke huye, sahme huye,
kabhi yun hi kisi soch mein,
ek adh chai coffee mein bhi
chini ki tarah ghule huye...

Shabd....
Lamhon ke saath mit tey huye,
kabhi rasoi mein, kabhi balish pe,
kabhi kisi adhi kavita ka hissa,
kabhi kisi kahani ke adhurepan mein.

Shabd...
Ek toofan ko likhne ka zariya
bawandar hai, samandar hai.
Shabd hain toh tilasma hai,
shabd hain toh hum hain....

शब्द..
बिखरे हुए यहाँ वहाँ,
कहीं किसी कागज़ पे,
किसी किताब के आखिरी पन्ने पर,
दराज के किसी कोने में।
दुबके हुए, सहमे हुए,
कभी यूँ ही किसी सोच में,
एक आध चाय कॉफ़ी में भी
चीनी की तरह घुले हुए...

शब्द....
लम्हों के साथ मिटते हुए,
कभी रसोई में, कभी बालिश पे,
कभी किसी आधी कविता का हिस्सा,
कभी किसी कहानी के अधूरेपन में।

शब्द....
इक तूफ़ान को लिखने का ज़रिया,
बवंडर है, समन्दर है।
शब्द हैं तो तिलस्म है,
शब्द हैं तो हम हैं.......

( Daraj= drawer, Bawandar= tornado, whirlwind, Balish= pillow, Tilasma= magic... )

Sunday, September 14, 2014

HARSINGAR / हरसिंगार








डर नहीं होता है कुचले जाने का,
हरसिंगार डाल से निःशब्द गिर जाता है ..

Dar nahi hota hai kuchle jane ka,
Harsingaar daal se ni:shabd gir jata hai





Pic courtesy- Google

Wednesday, September 10, 2014

CHAAND - RAAT…. / चाँद - रात.…



Ik chaand-raat yoon ki
chaand hai par nahi bhi.
Ik chaand-raat yoon ki
badal mujhse hi poochhe paheli....

Ik chaand-raat ki khatir
bheega dil doobkar yadon mein.
Ik chaand-raat yoon ki
chandni ghul gayi syahi mein......

Ik chaand-raat ki khatir
main mahua se madak.
Ik chaand-raat yun ki
tumhe likhti rahi sahar tak.....

इक चाँद-रात यूँ कि
चाँद है पर नहीं भी।
इक चाँद-रात यूँ कि
बादल मुझसे ही पूछे पहेली......

इक चाँद-रात की ख़ातिर
भीगा दिल डूबकर यादों में।
इक चाँद-रात यूँ कि
चाँदनी घुल गयी स्याही में.....

इक चाँद-रात की ख़ातिर
मैं महुआ से मादक।
इक चाँद-रात यूँ कि
तुम्हें लिखती रही सहर तक.....

Monday, August 18, 2014

YAAD AATE HO... / याद आते हो.....


Yun hi ek jhonka guzar jata hai
tum yaad aate ho
yun hi almari se kuch girta hai
tum yaad aate ho

yadein chhupi hai jabin ki shiknon mein
yadein chhupi hain chehre ki silwaton mein
kuch aate hue palon mein
kuch jate hue palon mein
tum yaad aate ho

kabhi baraste hue mausam mein
kabhi pareshan karti umas mein
jab hoti hai sarsarahat patton ki
ya hote ho, bas inch bhar door hi
tum yaad aate ho...............










............... यूँ ही एक झोंका गुज़र जाता है
तुम याद आते हो
यूँ ही अलमारी से कुछ गिरता है
तुम याद आते हो


यादें छुपी हैं जबीं की शिकनों में
कभी बरसते हुए मौसम में
यादें छुपी हैं चेहरे की सिलवटों में
कुछ आते हुए पलों में
कुछ जाते हुए पलों में
तुम याद आते हो

कभी परेशान करती उमस में
जब होती है सरसराहट पत्तों  की
या होते हो, बस इंच भर दूर ही
तुम याद आते हो.





PIC COURTESY- ANWESHAN BOSE

Thursday, July 17, 2014

BARISHEIN.../ बारिशें...



Barishein hoti rahin, kabhi musalsal, kabhi tham-tham ke,
hum boondon mein kabhi mausiki, kabhi sargoshiyan dhoondte rahe....





बारिशें होती रहीं, कभी मुसलसल, कभी थम-थम के,
हम बूँदों में कभी मौसिकी, कभी सरगोशियाँ ढूँढते रहे...

Friday, July 04, 2014

HISAAB..../ हिसाब.....




Hisaab mein galtiyaan kal bhi karte thhe, aaj bhi karte hain,
chalo achcha hai, jana toh akhir khali haath hi hai....






हिसाब में गलतियाँ कल भी करते थे, आज भी करते हैं,
चलो अच्छा है, जाना तो आख़िर ख़ाली हाथ ही है...








Pic courtesy- mcsmith.blogs.com


Thursday, July 03, 2014

YAADEIN..../ यादें.....


Khalipan mein tumhari yadon ka satana lazmi hai,
hadein toot ti hain jab masroofiyat mein bhi tum yaad aane lago......

ख़ालीपन में तुम्हारी यादों का सताना लाज़मी है,
हदें टूटती हैं जब मसरूफ़ियत में भी तुम याद आने लगो.....

Monday, June 30, 2014

KHAMOSHI..../ ख़ामोशी....



Likh aye thhe ham thodi khamoshi, kuch kavitayein, ret par,
na jane kyun use mitakar tum de gaye ek khali seep

Shayad nahin rakhna chahte ho kuchh bhi apne paas...khamoshi bhi nahin...




लिख आये थे हम थोड़ी ख़ामोशी, कुछ कवितायेँ, रेत पर,
न जाने क्यूँ उसे मिटाकर तुम दे गए एक ख़ाली सीप

शायद नहीं रखना चाहते हो कुछ भी अपने पास...ख़ामोशी भी नहीं...


PIC BY APARNA BOSE (AT PURI- ODISHA)

Saturday, June 28, 2014

YE AATE ZAROOR HAIN..../ ये आते ज़रूर हैं....


Kabhi payal ki tarah,
khanakte huye.
Kabhi paon mein chhale liye,
aate zaroor hain.
Jagti ankhon mein,
Neend mein khoi ankhon mein,
aate zaroor hain.
Jane kyun ye sapnoN jaisi yadein,
ye yadon mein badalte sapne,
dastak dete hain mehman bankar.
Us waqt jab,
na hum so rahe hote hain,
na hum jag rahe hote hain,
hote hain bas,
ik anchinhe khumar mein,
ye aate zaroor hain.....

कभी पायल की तरह खनकते हुए,
कभी पाँव में छाले लिए,
आते ज़रूर हैं।
जागती आँखों में,
नींद में खोई आँखों में,
आते ज़रूर हैं।
जाने क्यूँ ये सपनों जैसी यादें,
ये यादों में बदलते सपने,
दस्तक देते हैं मेहमान बनकर।
उस वक़्त जब,
न हम सो रहे होते हैं,
न हम जग रहे होते हैं,
होते हैं बस,
एक अनचीन्हे ख़ुमार में,
ये आते ज़रूर हैं......




Wednesday, June 25, 2014

JAB SUNNA CHAHA …/ जब सुनना चाहा……




Jab sunna chaha 
us shakh pe pyase patte 
kya gunguna rahe hain
hamne sun liya

Jab sunna chaha 
dur kisi registaan ke 
befikra ret ki dastaan 
hamne sun liya

Jab sunna chaha 
tumhare bheetar dhadakta
gungunata hua dil
hamne sun liya

Jab sunna chaha 
hamne apne hi dil ko
tumhara naam pukarte hue
hamne sun liya...






जब सुनना चाहा
उस शाख पे प्यासे  पत्ते
क्या गुनगुना रहे हैं
हमने सुन लिया

जब सुनना चाहा
दूर किसी रेगिस्तान के
बेफ़िक्र रेत की दास्तान
हमने सुन लिया

जब सुनना चाहा 
तुम्हारे भीतर धड़कता 
गुनगुनाता हुआ दिल 
हमने सुन लिया 

जब सुनना चाहा 
हमने अपने ही दिल को 
तुम्हारा नाम पुकारते हुए 
हमने सुन लिया ..


pic courtesy - www.bbc.co.uk

Thursday, June 12, 2014

SATH SATH..../ साथ साथ...



Kabhi tum sawaal, kabhi hum.
Kabhi tum jawaab, kabhi hum.
Sawaalon ke jawab,
jawaabon pe sawaal,
Shayad yahi hai behna,
Sath sath, saans lete huye.....

कभी तुम सवाल, कभी हम.
कभी तुम जवाब, कभी हम.
सवालों के जवाब,
जवाबों पे सवाल,
शायद यही है बहना,
साथ साथ, साँस लेते हुए....

Wednesday, May 07, 2014

SHOONYA.../ शून्य...




Main,
ek shoonya,
kabhi kuchh nahin,
kabhi bohat kuchh.
Main,
ek ehsaas,
nirjeev se zyada,
mrityu se kam.






मैं,
एक शून्य,
कभी कुछ नहीं,
कभी बहुत कुछ. 
मैं,
एक एहसास,
निर्जीव से ज़्यादा ,
मृत्यु से कम.






pic courtesy-www.chemistryland.com
text-aparna bose

Saturday, May 03, 2014

ADHAA PYAR... / आधा प्यार ....



Woh adhi cup coffee,
thali mein rakhi adhi roti,
woh kuchh aloo ke tukde,
adhi katori daal aur dahi,
adha sa chocolate,
is adhe pyar ko samet te samet te
main kab poori ho gayi ,
pataa nahin....









वो आधी कप कॉफी,
थाली में रखी आधी रोटी,
वो कुछ आलू के टुकड़े,
आधी कटोरी दाल और दही,
आधा सा चॉकलेट ,
इस आधे प्यार को समेटते समेटते,
मैं कब पूरी हो गयी,
पता नहीं……



pic courtesy- www.reikiflow.net

SOME OF MY FAVOURITE POSTS

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...