Followers

Wednesday, September 10, 2014

CHAAND - RAAT…. / चाँद - रात.…



Ik chaand-raat yoon ki
chaand hai par nahi bhi.
Ik chaand-raat yoon ki
badal mujhse hi poochhe paheli....

Ik chaand-raat ki khatir
bheega dil doobkar yadon mein.
Ik chaand-raat yoon ki
chandni ghul gayi syahi mein......

Ik chaand-raat ki khatir
main mahua se madak.
Ik chaand-raat yun ki
tumhe likhti rahi sahar tak.....

इक चाँद-रात यूँ कि
चाँद है पर नहीं भी।
इक चाँद-रात यूँ कि
बादल मुझसे ही पूछे पहेली......

इक चाँद-रात की ख़ातिर
भीगा दिल डूबकर यादों में।
इक चाँद-रात यूँ कि
चाँदनी घुल गयी स्याही में.....

इक चाँद-रात की ख़ातिर
मैं महुआ से मादक।
इक चाँद-रात यूँ कि
तुम्हें लिखती रही सहर तक.....

18 comments:

  1. बहुत बढ़िया जी ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहे दिल से शुक्रिया उपासना जी :)

      Delete
  2. आपकी लिखी रचना शनिवार 13 सितम्बर 2014 को लिंक की जाएगी........
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया यशोदा जी। सम्मानित :)

      Delete
  3. बहुत ही लाजवाब रचना है
    आज एक उम्दा ब्लॉग की तलाश खत्म हुई



    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है रंगरूट

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका।

      Delete
  4. Replies
    1. दिल से शुक्रिया रश्मि जी। :)

      Delete
  5. वाह ! बहुत ही सुन्दर !

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद साधना जी

      Delete
  6. Bahut Khoob .....

    swayheart.blogspot.in

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद राजश्री

      Delete
  7. वाह ! बहुत ही सुन्दर !

    ReplyDelete

SOME OF MY FAVOURITE POSTS

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...