Followers

Saturday, June 29, 2013

MAUN SISKIYAAN / मौन सिसकियाँ

Saptah ke 6 din bohat kathin hote ja rahe the uske liye...roz subah se lekar dopahar tak bachche ka school se lautne ka intezar aur itni lambi prateeksha ka khalipan use kaatne ko daudta tha..par uski duniya badal jati thi jab dopahar ka khana khate khate school ki chatpati batein woh apni maa ke saath sanjha karta tha ...koshish karti ki jitna ho sake ek mitra ki tarah uske saath uske jagat ka ek hissa ban sake....

Us din batoN batoN mein usne bhi apni saheli ki beti ka zikra kiya  .. uski saheli jo ki usi ki tarah ek grihani thi bohat aahat hui thi apni beti ki batoN se .... uski beti ko achcha nahin lagta tha ki uski maa ek sadharan snatak hai ... beti ke ek prashna ne bohat vichalit kar diya tha uski saheli ko, jab bachchi ne school se laute hi poochha "maa, kya tumhari bachpan se yahi abhilaasha thi ki tum badi hokar ek 'housewife' banogi?"

Ghatana ka vivaran chupchap sun raha beta achanak chillakar kahne laga " tum mujhe kyon suna rahi ho ? maine kabhi tum se aisa kaha kya? ayah ke paas rakh deti mujhe, kar leti apni akankshayein poori...maine toh mana nahiN kiya tha .. main apni zimmedari khud uthane layak ho gaya hoon..jahaN chahe, jitni der tak chahe naukri kar lo tum..." .


Uske gale mein jaise kuchh atak gaya tha . na nigalte ban raha tha ,na ugalte...jise usne apne jeevan mein hamesha prathamikta di aaj woh aise shabd kitni asaani se kah kar apne kamre mein chala gaya...woh stabdh khadi uw darwaaze ki ore taakti rah gayi...un chand lamhoN mein uski zindagi ....uske ankho ke samne aa khadi hui..aur palatne lagi panne beete hue dino ke ...le gayi use bhootkaal mein jahan rangbirange sapno se ghira rahta tha uska kamra, uski kitabein, uski saansein...

Use laga ek baar apni santaan se poochhe kya isi din ke liye usne apni samast ichchaon ko dhakel diya tha agnikund mein? phir agle hi pal usne mahsoos kiya ,naa," isme na galti meri hai na uski, usne kab kaha tha ki mere liye itna bada balidaan do, tyag karo. aaj apni nakaami ka bojh uske sar daloongi toh uska prativaadi man chup thode hi baithega... umra bhi toh aisi hi hai ...khud ko samajh nahin pa raha hai shayad "..madad bhi toh nahin karne deta . kuch bolo toh ek hi jawab, "sab ataa hai, 'help' nahin chahiye" .. shayad ye rawayiya bhi viraasat mein mila hai usko ... phir bajai garv ke use gussa kyon aa raha hai  bete ke upar !!

Jeevan kadachit aisi hi vidambanaon  ( vidambana-irony) ka guchcha hai..  suljhate suljhate insaan boodha ho jata hai ... phir budhape mein kisi akeli nirjeev khidki ke saamne baithkar sochta rahta hai apni galatiyon ke baare mein ...ret ki tarah phisalte hue samay ko kabhibaandh nahin saka jo, jeevan ke antim charan mein use ehsaas hota hai apni galatiyon ka aur uska kamzor toot ta hua badan ab chahta hai ki samay ke pahiye ko bhootkaal mein dhakel de ... badal dena chahta hai un paristhitiyon ko jinhone use woh insaan banaya hai jise woh aaine mein roz dekhta hai , ek aisa vyakti jo kunthagrast hai ... isi kuntha ke bojh tale insaan dab jata hai aur uski siskiyan bhi ...

Kaun kahta hai umra ho jane par koi bachchon ki tarah nahin rota? rota hai , bas uski maun siskiyaan sunayi nahi deti aur sookhe hue ashk( tears) nazar nahi ate .... asal mein dikhane se darta hai . apne ho ya paraye, doosre ka dukh koi nahin dekhna chahta ..is tarah bhagta hai jaise ki dukh ' koi sankramak rog ho ...




Aaj uska man bhi dhoondh raha tha koi kona jahan bachchon ki tarah rokar apna man halka kar leti...na jane budhape mein use aisi khidki naseeb hogi bhi ki nahin.. .. par aaj is nawal-kishore (adolescent) ki baton se use ehsaas ho gaya ,har bachche mein ek swabhimaani vayask (adult) aur bade mein nasamajh bachcha chhupa hota hai ...is baat ki sachchai ko parakhne ki shayad awashyakta nahin hai ...samay-asamay paristhitiyan hamein aise satya ke sammukheen kar hi deti hai .......achanak mobile ka karkash swar  (cacophonous ringtone) use vaastav (reality) mein lauta laya ... phone utha kar dekha toh uski maa ka number tha .... man shaant hua ... sooraj ki taap se asthir pipaasit (thirsty) sharir ko jaise jharne ka swachh sheetal jal mil gaya ho....


सप्ताह के 6 दिन बहुत ही कठिन होते जा रहे थे उसके लिए. रोज़ सुबह से लेकर दोपहर तक बच्चे का स्कूल से लौटने का इंतज़ार और इतनी लंबी प्रतीक्षा का ख़ालीपन उसे काटने को दौड़ता था. पर उसकी दुनिया बदल जाती थी जब दोपहर का खाना खाते खाते स्कूल की चटपटी बातें वो अपनी माँ के साथ सांझा करता था. कोशिश करती की जितना हो सके एक मित्र की तरह उसके साथ उसके जगत  का एक हिस्सा बन सके   ...

उस दिन बातों बातों में उसने भी अपनी सहेली की  बेटी का ज़िक्र किया..उसकी सहेली ,जो की उसी की तरह एक गृहणी थी बहुत आहत हुई थी अपनी बेटी की बातों से...उसकी बेटी को अच्छा नहीं लगता था कि उसकी माँ सारा दिन घर में ही बैठी रहती है.शायद उसे लज्जा आती थी अपने दोस्तों को यह बताते हुए की उसकी माँ एक साधारण स्नातक  है.  बेटी के एक प्रश्न ने बहुत विचलित कर दिया था उसकी सहली को, जब बच्ची ने स्कूल से लौटते ही पूछा " माँ क्या तुम्हारी  बचपन से यही अभिलाषा थी कि तुम बड़ी होकर एक 'हाउसवाइफ' बनोगी?"

घटना का विवरण चुपचाप सुन रहा बेटा अचानक   चिल्लाकर कहने लगा  " तुम मुझे क्यों सुना रही हो? मैने कभी तुम से ऐसा कहा क्या? आया  के पास रख देती मुझे, कर लेती अपनी आकांक्षाएँ पूरी. मैने तो मना  नहीं किया था.मैं अपनी ज़िम्मेदारी खुद उठाने लायक हो गया हूँ, जहाँ चाहे,जितनी देर तक चाहे नौकरी कर लो तुम ".


उसके गले में जैसे कुछ अटक गया था..न निगलते बन रहा था न उगलते .. जिसे उसने अपने जीवन में हमेशा प्राथमिकता दी आज वो ऐसे शब्द कितनी आसानी  कह के अपने कमरे में चला गया.… वो स्तब्थ खड़ी उस दरवाज़े की ओर ताकती  रह गयी... उन चंद लम्हों में उसकी ज़िंदगी.. उसके आँखों के सामने आ खड़ी हुई... और पलटने लगी पन्ने बीते हुए दिनों के….  ले गयी उसे भूतकाल में जहाँ रंगबिरंगे सपनों से घिरा रहता था उसका कमरा, उसकी किताबें ,उसकी साँसे  ...

उसे लगा एक बार अपनी संतान से पूछे क्या इसी दिन के लिए उसने अपनी समस्त इच्छाओं को धकेल दिया था अग्निकुंड में ? फिर अगले ही पल उसने महसूस किया ," ना, इसमे न ग़लती मेरी है न उसकी. उसने कब कहा था की मेरे लिए इतना बड़ा बलिदान दो, त्याग करो. आज अपनी नाकामी का बोझ उसके सर डालूंगी तो उसका प्रतिवादी मन चुप थोड़े ही ना बैठेगा "..उम्र भी तो कुछ ऐसी ही है. खुद को समझ नहीं पा रहा है शायद .मदद भी तो नहीं करने देता. कुछ बोलो तो एक ही जवाब; "सब आता है, 'हेल्प' नहीं चाहिए". शायद ये रवैया भी विरासत में ही मिला है उसको. फिर बजाए गर्व के उसे गुस्सा क्यों आ रहा है बेटे के ऊपर  !!

जीवन कदाचित् ऐसी ही विडंबनाओं का गुच्छा है.सुलझाते सुलझाते इंसान बूढ़ा हो जाता है, फिर बुढ़ापे में किसी अकेली निर्जीव खिड़की के सामने बैठकर सोचता रहता है अपनी ग़लतियों के बारे में. रेत की तरह फिसलते हुए समय को कभी बाँध नही सका जो , जीवन के अंतिम चरण में उसे एहसास होता है अपनी ग़लतियों का और उसका कमज़ोर टूटता हुआ बदन अब चाहता है की समय के पहिए को भूतकाल में धकेल दे. बदल देना चाहता है उन परिस्थितियों को जिन्होंने उसे वो इंसान बनाया है जिसे वो आईने में रोज़ देखता है, एक ऐसा व्यक्ति जो कुंठाग्रस्त है.  इसी कुंठा के बोझ तले इंसान दब जाता है और उसकी सिसकियाँ भी.

कौन कहता है उम्र हो जाने पर कोई बच्चों की तरह नहीं रोता? रोता है, बस उसकी मौन सिसकियाँ सुनाई नहीं देती और सूखे हुए अश्क नज़र नहीं आते... असल में दिखाने से डरता है. अपने हो या पराए ,दूसरे का दुख कोई नहीं देखना चाहता. इस तरह भागता है जैसे की 'दुख' कोई  संक्रामक रोग हो...




आज उसका मन भी ढूँढ रहा था कोई कोना जहाँ बच्चों की तरह रोकर अपना मन हल्का कर लेती.... न जाने बुढ़ापे में उसे ऐसी खिड़की नसीब होगी भी की नहीं. पर आज इस नवल-किशोर  की बातों से उसे एहसास हो गया, हर बच्चे में एक स्वाभिमानी वयस्क और बड़े में नासमझ बच्चा छुपा होता है ....इस बात की सच्चाई को परखने की शायद आवश्यकता नहीं है...समय-असमय परिस्थितियाँ हमें ऐसे सत्य के सम्मुखीन कर ही देती है........... अचानक मोबाईल का कर्कश स्वर उसे वास्तव में लौटा लाया... फोन उठा कर देखा तो उसकी माँ का नंबर था... मन शांत हुआ....सूरज की ताप से अस्थिर पिपासित शरीर को जैसे झरने का स्वच्छ शीतल जल मिल गया हो..........



Thursday, June 27, 2013

THE SCENT OF RAIN.......



When you come
unannounced,
pouring your love
nonchalantly
that scent, the petrichor
and the smiling leaves
keep me awake.
Though I sleep a little bit,
again in the morning
when I see your smiling face
I wonder, was it really you
in my dreams,
painting on the window pane!!

When you are around
the mild chill in the air
beckons the singer in me,
the silence around me
plays the rhythm I need.
The silvery shiny soothing droplets
enthuse the romantic in me,
and your unequalled fervour
alters everything that’s acidic.
That the snoring of my beloved
seems like an awing country music……
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
Rain is a beautiful thing........ indeed

(Image Courtesy- Google)

Sunday, June 23, 2013

NaMo ji ye bhedbhaav kyon? नामो जी ये भेदभाव क्यों ?


Jahan tamaam fauji aur vibhinna border force ke log tatha raahat karmi teen- char dinoN mein kewal 2000 logon ko hi suraksha kshetra tak pahuncha paye hain wahan hamare Modi sahab davaa kar rahe hain ki unhone do dinoN mein 15000 Gujratiyon ko raahat dilane mein madad ki hai.....
Ab tak sab theek tha par hairat ki baat ye ki aapne kaise itne saare peedhit mein se Gujratiyon ko pehchana aur usse bhi zyada khatakne waali baat ye ki jo vyakti is desh ka pradhanmantri banne ki ichcha rakhta hai woh sirf gujratiyon ke bare mein kyon soch raha hai !!!





Insaan madad karte waqt bhi apna paraya sochne lage toh aise insaan ki insaaniyat pe sawaal to uthenge hi bhai....par mera salaam un sabhi logon ko jinhone is vipda ki paristhiti mein bhookhe pyason ko muft mein khana khilaya aur peedhit logon ko jeevandaan diya.



Shayad kuch log kahenge ki ye toh unka kaam hai ...naukri hai, duty hai ... par kitne log apna kaam man laga  ke karte hain? is desh ke neta janata ka paisa kha kha ke kuch karte hain kya? deshseva ke naam par loot rahe hain.....khiladiyon ka kaam hai imaandari s khelna, ab ye bhi chori karne lage hain...
mushkil ghari mein nihswarth bhaav se madad karne wala ishwar tulya hota hai ...aur is waqt ye sainik aur rahat karmi hamare liye bhagwan se kuch kam nahin....





जहाँ तमाम फ़ौजी और विभिन्न बॉर्डर फोर्स के लोग तथा राहत कर्मी  तीन -चार दिनों में केवल २००० लोगों को ही सुरक्षा क्षेत्र तक पहुँचा पाए हैं वहाँ हमारे मोदी साहाब दावा कर रहे हैं की उन्होने दो दिनों में  १५००० गुजरातियों को राहत दिलाने में मदद की है...
अब तक सब ठीक था पर हैरत की बात ये है की आपने कैसे इतने सारे पीड़ित में से गुजरातियों को पहचाना और उससे भी ज़्यादा खटकने वाली बात ये कि जो व्यक्ति इस देश का प्रधानमंत्री बनने की इच्छा रखता है वो सिर्फ़ गुजरातियों के बारे में क्यों सोच रहा है!!!

इंसान मदद करते वक़्त भी अपना पराया सोचने लगे तो ऐसे इंसान की इंसानियत पे सवाल तो उठेंगे ही भाई... पर मेरा सलाम उन सभी लोगों को जिन्होने इस विपदा की परिस्थिति में भूखे प्यासों को मुफ़्त में खाना खिलाया और  पीड़ित लोगों को जीवनदान दिया.





शायद कुछ लोग कहेंगे की ये तो उनका काम है..नौकरी है,ड्यूटी है.... पर कितने लोग अपना काम मन लगा के करते हैं? इस देश के नेता जनता का पैसा खा - खा के कुछ करते हैं क्या?  देशसेवा के नाम पर लूट रहे हैं... खिलाड़ियों का काम है ईमानदारी से खेलना , अब ये भी चोरी करने लगे हैं..
मुश्किल घड़ी में नि:स्वार्थ भाव से मदद करने वाला ईश्वर तुल्य होता है... और इस वक़्त ये सैनिक और राहत कर्मी हमारे लिए  भगवान से कुछ कम नहीं...







                                                   PICTURE COURTESY GOOGLE






Saturday, June 22, 2013

आम जनता की लाचारी.... / AAM JANATA KI LACHARI .....

हर सुबह कितने प्यार से इंतज़ार करते हैं तुम्हारा
पर तुम्हारे हर सफ़े पर दहशत लिखी होती है.........

Har subah kitne pyar se intzar karte hain tumhara
par tumhare har safhe par dahshat likhi hoti hai ......
( safha- page, dahshat- scare,horro,terror )

भारत को कभी 'सोने की चिड़िया' कहा जाता था. बचपन में ऐसा सुनते थे तो गर्व से मन ओतप्रोत हो जाता था.सब कुछ , सारे पाठ कितने सच्चे लगते थे. आज बच्चे जब इतिहास का कोई पाठ पढ़ते हैं तो अविश्वास से उनका सर नकारात्मक भंगिमा में हिलने लगता है...जैसे सब मनगढ़ंत हो. सही भी है... देश की मौजूदा परिस्थिति ही कुछ ऐसी है. हिंसक और जघन्य घटनाओं से कोई भी कोना इस देश का अछूता नहीं है. प्रकृति भी धिक्कार रही है इंसान के कारनामों को. ऐसा क्रोध की स्वयं शिवशम्भु भी इस धरातल में नहीं रहना चाहते हैं. लाचार है आम इंसान, बहुत लाचार और बेबस. अपने घर का चूल्हा कैसे जलाए रखें इसकी चिंता करे या देश की!! अद्भुत विडंबना है. कारण एक ही है, जिन लोगों के हाथों जनता ने डोर पकड़ाई है वो आज आपस में ही मरनेमारने को  उतारू हैं. अब तो बच्चों को ये कहते हुए भी डर लगता है की अख़बार पढ़ो...  डर इस बात का कि हर दूसरे पन्ने पर दहशत लिखी होती है... आत्महत्या,बलात्कार,चोरी -डकैती , खून-ख़राबा... और तो और अब तो खेल का जगत भी स्वच्छ नही रहा...भिखारियों की तरह  'अंडरवर्ल्ड' से पैसे माँगते हैं निर्लज्ज. खेलते कम हैं, विज्ञापनों में ज़्यादा दिखते हैं......क्या सीखेंगे अख़बार पढ़के? उल्टा ढेरों प्रश्ना उपजेँगे उनके ज़हन में. जिन बच्चों में आत्मविश्वास की कमी है वो तो शायद सहम के सिकुड़ ही जाएँगे.

दिसंबर में हुई उस लज्जाजनक हिंस्रक बलात्कार की घटना के बाद जिस तरह समस्त देशवासियों ने अपने सामर्थ्य अनुसार आवाज़ उठाई थी ,बहुत आशान्वित थे हम सब की इस बार दुष्कर्मियों को सज़ा मिलके ही रहेगी........जनता ने फाँसी की माँग की पर आज भी कुछ नहीं हुआ उन गुण्डों का. एक शायद जेल में ही मर गया .इन लोगों को जल्द से जल्द सज़ा ना देने का कारण तो समझ नहीं आता पर इसका परिणाम है बलात्कार पे बलात्कार. हाल ही में कोलकाता में ऐसी ही निशंसता की शिकार हो गयी एक बच्ची... यहाँ तो हालात और बुरे हैं. प्रतिवादी को ही दोषी करार दिया जा रहा है. कल 'वॉक' या 'प्रोटेस्ट मार्च'  में काई लोग शामिल हुए थे , जो नहीं हुए वो भी मानसिक रूप से मौजूद थे. अब भी सरकार बहरी होने का स्वांग रचे तो क्या किया जा सकता है. सरकार तथा बहुसंख्यक समाज सेवी संगठों ने एक सुझाव दिया है, बच्चों को आत्मरक्षा के तरकीब विद्यालयों में सिखाये जाने चाहिए. अब कराटे कहिए या मुक्केबाज़ी, सीखने के लिए पैसे कितने लोगों के पास है? स्कूल क्या मुफ़्त में सिखाएँगे? मिड्डे मील तक के पैसे चुराकर बच्चों को जो ठीक से खाना नहीं परोसते वो आत्मरक्षा सिखाएँगे,वो भी मुफ़्त में? और जो महिलाएँ तीस-चालीस की हैं उनका क्या? बलात्कारी तो आजकल उम्र तक नहीं देखते....... इससे बेहतर क्या ये नहीं होगा की हम ऐसे दुष्कर्मियों को मार ही डालें ?

आज हम इंसानो के पास कुछ वृक्ष, थोड़ी हरियाली और थोड़ी सी ही शुद्ध साँसे बची हैं...ये भी ख़त्म हो गये तो इंसान भी मिट जाएगा.... अपना आज जी कर भविष्य को अंधेरे में धकेल कर चले जाना कहाँ की समझदारी है? प्रकृति की सुंदरता से वंचित रहने का नतीजा है छोटी सी उम्र में ही मन में कड़वाहट का घुल जाना,....आज फिल्मी गानों में इतने निम्न स्तर के शब्द चयन का कारण भी यही है... इस प्रजन्म से अपेक्षा भी नहीं करनी चाहिए.... अश्लीलता और सभ्यता में अंतर तक करना नहीं जानते कई बच्चे...या शायद हम इनका सही मार्गदर्शन करने में असमर्थ हो गए …
एक समस्या के बारे में लिखते ही दूसरी समस्या कलम से कागज़ तक जाने के लिए बेताब हो जाती है... देश गहन परिस्थिति में उलझ गया है. उबर आया तो ठीक वरना राम ही जाने....

Bharat ko kabhi 'sone ki chiriya' kaha jata tha. Bachpan mein aisa sunte the to garv se man otprot ho jata tha.Sab kuchh , sare path kitne sachche lagte the.Aaj bachche jab itihaas ka koi paath padhte hain toh  avishwas se unka sar nakaratmak bhangima mein hilne lagta hai...jaise sab mangadhant ho. Sahi bhi hai... desh ki moujuda paristithi hi kuch aisi hai. Hinsak aur jaghanya ghatnaon se koi bhi kona is desh ka achhuta nahin hai. Prakriit bhi dhikkar rahi hai insaan ke karnamon ko.Aisa krodh ki swayam shivshambhu bhi is dharatal mein nahin rahna chahte hain. Lachaar hai aam insaan,bohat lachaar aur bebas. Apne ghar ka chulha kaise jalaye rakhein iski chinta kare ya desh ki!! adbhut vidambana hai. Karan ek hi hai, jin logon ke hathon janata ne dor pakdai hai woh aaj aapas mein marnemaarne ko utaru hain.Ab to bachhon ko ye kahte hue bhi darr lagta hai ki akhbaar padho... darr is baat ka ki har doosre panne par dahshat likhi hoti hai... atmahatya,balatkar,chori -dakaiti , khoon-kharaba... aur to aur ab toh khel ka jagat bhi swachh nahi raha...bhikariyon ki tarah  'underworld' se paise maangte hain nirlajj. khelte kam hain, vigyapanon mein zyada dikhte hain......kya seekhenge akhbaar padhke? Ulta dheron prashna upjenge unke zahan mein. Jin bachchon mein atmavishwas ki kami hai woh to shayd saham ke sikud hi jayenge.

December mein hui us lajjajanak hinsrak balatkar ki ghatana ke baad jis tarah samast deshwasiyon ne apne samarthya anusaar awaz uthai thi ,bohat ashanwit the ham sab ki is baar dushkarmiyon ko sazaa milke hi rahegi........janata ne faansi ki maang ki par aaj bhi kuchh nahin hua un gundoN ka.Ek shayad jail mein hi mar gaya.In logon ko jald se jald saza na dene ka karan toh samajh nahin ataa par iska parinam hai balatkar pe balatkar. haal hi mein Kolkata mein aisi hi nishansta ki shikar ho gayi ek bachchi... yahan to halaat aur bure hain. prativaadi ko hi doshi karar diya ja raha hai. Kal 'Walk' ya 'Protest March'  mein kayi log shamil hue the , jo nahin hue woh bhi mansik roop se moujood the. Ab bhi sarkar bahri hone ka swang rache toh kya kiya ja sakta hai. Sarkar tatha bahusankhyak samajsevi sangathon ne ek sujhav diya hai, bachchon ko atmarakhsha ke tarkeeb vidyalayon mein seekhaye jane chahiye. Ab karate kahiye ya mukkebazi, seekhne ke liye paise kitne logon ke paas hai? School kya muft mein sikhayenge? Midday meal tak ke paise churakar bachchon ko jo theek se khana nahin paroste woh atmaraksha sikhayenge,woh bhi muft mein? Aur jo mahilayen tees-chalees ki hain unka kya? balatkari to aajkal umra tak nahin dekhte....... isse behatar kya ye nahin hoga ki ham aise dushkarmiyon ko maar hi dalein ?

Aaj ham insaano ke paas kuchh vrikhsh, thodi hariyali aur thodi si hi shuddh saanse bachi hain...ye bhi khatm ho gaye toh insaan bhi mit jayega.... apna aaj jee kar bhavishya ko andhere mein dhakel kar chale jana kahan ki samajhdari hai? Prakriti ki sundarta se vanchit rahne ka nateeja hai chhoti si umra mein hi man mein kadhwahat ka ghul jana,....Aaj filmi gaanon mein itne nimn star ke shabd chayan ka karan bhi yahi hai... is prajanm se apeksha bhi nahin karni chahiye.... ashleelta aur sabhayata mein antar tak karna nahinjante kai bachche...ya shayad ham inka sahi margdarshan karne mein asamarth ho gaye
Ek samasya ke bare mein likhte hi doosri samasya kalam se kagaj tak jane ke liye betaab ho jati hai... desh gahan paristhiti mein ulajh gaya hai.Ubar aya to theek varna Ram hi jane....

Wednesday, June 19, 2013

I AM NOT APOLITICAL BY COMPULSION.......

I am not apolitical by compulsion , but by choice
I am not a meek citizen but I do not protest as my voice will be muzzled
I am against criminalities but avoid speaking up lest I am labeled
I am a citizen of a democratic country not by accident, but by birth

PARIKSHA / परीक्षा

PIC-GOOGLE

कोयल की कूक आज भी पुरानी  यादों को ताज़ा कर देती है।।याद दिला देती है दसवीं की
, जिसे हम बोर्ड  एक्ज़ाम  कहते थे .... एक ओर कोयल की सुरीली तान ,आम के पेड़ पर खिली खिली सी मंजूरी और दूसरी ओर टेबल पर रखी भिन्न- भिन्न विषयों की किताबें और नोट्स ....पढ़ने  बैठो तो कोई न कोई हॉर्लिक्स और पार्ले - जी बिस्कुट भी थमा जाता .........
( अब हॉर्लिक्स का स्थान ले लिया है कॉफी  ने और परीक्षा तो प्रतिदिन देते हैं ..... फिर चाहे कोयल की कूक हो या कौए की कर्कश पुकार ) ...........

NO SMOKING... Dhoompaan kora swasther jonne khotikarok.

Kal anekgulo traffic signal cross korlam... kono road intersection e Rabindrasangeet bajchhilona....beshirbhag e non-functional hoye giyechhe mone hoi, ta chhara,  Thakur dhumpaan(ধূমপান) niye kono gaan o lekhenni ...bhaggish!!
Akta aro katha mone holo je Pashchim Bonge jato cinema hall achhe shekhane statutary warning  na dilei to chole..."
..cigarette khele ba khailei cancer hobe !!" jatto shob nyakami...
Jader ja giyechhe ta niye to ar kichhu kora jabena...baki jader ja achhe sheta cigaretter dhoNar shathe ure jak r ki........Barir baro ra jakhon permission ar utshaho dutoi diye diyechhen, amra bolar ke !!!

PIC-GOOGLE
Traffic signal e ei gaan ta bajalei hoi.....
Main zindagi ka saath nibhata chala gaya........
Har fikr ko dhuein mein udata chala gaya.....(hum dono...singer-Mohd Rafi)
(Ekti fraud er jonne emnitei anekgulo loker khoti hoe gyachhe...shei bhool ta shodhrabar jonne aro kichhu loker khoti hok ar ki)

MATRITWA / मातृत्व


PIC-GOOGLE
पिछले महीने जावेद अख्तर जी  ने संसद के एक सत्र के दौरान एक मुद्दा उठाया था मातृत्व के सन्दर्भ में ...उनका एक प्रश्न सचमुच दिल को झकझोर गया ... उन्होंने जो कहा वो कुछ इस प्रकार था ..." कहते हैं माँ के पैरों तले स्वर्ग है ,माँ भगवान का रूप है, तो क्या उस औरत को वो सम्मान या प्यार नहीं मिलना चाहिए जो माँ नहीं बन सकी ? "
निः संदेह विचार करने योग्य .......
विडंबनात्मक बात यह है कि एक ओर  हमारे देश में जहाँ देवियों की पूजा शक्ति या माँ के रूप में की जाती है वहीँ दूसरी ओर कुछ पलों के अंतराल में एक बलात्कार या भ्रूण हत्या का कांड टीवी के परदे पर दिखाई देता है .

जावेद जी ठीक ही तो कहते हैं ...ममता हर स्त्री के भीतर व्याप्त है या यूं कहें वो जन्म लेती है इस गुण के साथ…इसके लिए उसका माँ बनना ज़रूरी नहीं ...सिर्फ ममता ही क्यों, दूसरों के सुख दुःख बांटना ,और परित्याग की भावना ये ऐसे गुण हैं जिनसे उसका स्वाभाव स्वाभाविक या प्राकृतिक रूप से  सुशोभित है ...नहीं तो किसी गोद लिए गए बच्चे पर अपना सर्वस्व न्योछावर करना कैसे संभव होता है एक स्त्री के लिए?
आज अखबार में भी पढ़ा , कुछ ऐसी भी महिलाएं हैं जो निजी कारण  हेतु अविवाहित होते हुए भी मातृत्व का सुख पाने के लिए बच्चा adopt कर रहीं है ...काफी परेशानियों का सामना करना पढता है ऐसे cases में ,पर बिना हार  माने,विचलित हुए बिना अकेले ही बच्चा गोद भी ले रहीं हैं और उनका अच्छे से पालन-पोषण भी कर रहीं है .....
कोई ज़रुरत नहीं है औरत को या 'माँ ' को भगवान् का दर्ज़ा देने की ....इंसान है ,इंसान रहने दो… मान-सम्मान और प्यार ही काफी है ... इस प्रकार ये समाज ,ये संसार निश्चित रूप से  एक मनोरम स्थान बन  जायेगा ........

Saturday, June 15, 2013

MEN ARE FROM MARS, WOMEN ARE FROM VENUS.........

I woke up suddenly last night and found my husband sobbing badly..like a child.. eyes closed but crying. I realised he was having a real bad dream...could be of loss or sickness...or something eerie.....worried, I woke him up and asked him, "did you have any bad dreams?" He stared perplexedly at me and went (read ran)straight to the living room , came back and told me nah,everything is fine.
I said, "But what was it , what made you so upset ? " 
He answered, "I dreamt , we had a tiff and that you emptied the remaining scotch , pouring it down the kitchen sink" ...
Can you beat it !! So blunt and soooooooo....well, forget it.....
And sanguine that its still there and his 'on the rocks' rendezvous has not been ruined, my hubby was, within no time snoring away to glory... Staring blankly at the ceiling, I lay there for a long while, acridly wondering whether it is his scotch or blackberry or me? Where do I figure on his priority list? ( Considering,  the first thing he tends to do after waking up in the morning is to check his cell phone.....)
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
So true. Men ARE from mars and women ARE from venus..............period !!

Thursday, June 13, 2013

WHAT'S NEXT ?

The beginning of the end....
Trunk calls .....radio sets...cassettes.../... cassette players....discontinuation of the telegram services.... 





Wednesday, June 12, 2013

EK THI DAAYAN....


Dhoop na tum ko lage
Khol denge chhatariyaan
Peechhe peechhe din bhar
Ghar daftar mein le ke chalenge hum

Tumhaari filein, tumhaari diary
Gaadi ki chaabiyan, tumhaari enakein
Tumhaara laptop, tumhaari cap, phone
Aur apna dil, kanwaara dil
Pyaar mein haara bechara dil
Aur apna dil
picture -courtesy-google



The only thing amazing about the movie ‘ ek thi dayan’ was this song….the lyrics so very Gulzarish yet so contemporary …in his otherworldly, inimitable style only  Gulzaar Sahab can weave the letters so beautifully and write songs/poems which do not seem as if lost in a sea… he surely  knows how to go with the flow…a master weaver after all

Monday, June 10, 2013

रिश्ता

रिश्तों की अहम्मियत समझना और उन्हें ईमानदारी से निभाना  आसान नहीं है किसी के लिए भी ...प्यार और विश्वास दोनों बहुत ज़रूरी है ...कभी कभी तो इन दोनों से भी बात नहीं बनती और कारण ढूँढ़ते ढूँढ़ते रिश्ता ही ख़त्म हो जाता है ...और फिर अकेला इंसान हताश बैठा भाग्य को कोसता रहता है. ...ऐसे परिस्थिति को सँभालने के लिए गुरुजनों की विचारक्षमता आवश्यक है बशर्ते वो अपने अहम् को बीच में न लायें और समस्या में उलझे लोग रिश्ते को बचाने के लिए एक नासमझ बच्चे की तरह बड़ों का कहा समझने की कोशिश करें और उस पर अमल करें .........और रही समर्पण की बात ...तो उसके लिए बहुत बड़ा दिल चाहिए ...दिल बड़ा हो और क्षमा करने की मानसिकता हो तो टूटा हुआ रिश्ता खुद -ब- खुद जुड़ जाता है ....
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~



Thursday, June 06, 2013

YAYAVAR ( NOMAD ) / यायावर



Yadon ne karvatein badliN toh zahan mein silwatein padh gayi

यादों ने करवटें बदलीं तो ज़हन में सिलवटें पड़ गयीं


Har kadhwe ehsaas ko meetha mere khayalon ne hi banaya hai,
tapish ki chubhan ko khatm boondoN ki khushbu ne hi kiya hai

'Coffee' ke saath harfon ka rishta hi kuchh anokha  hai
(tapish-heat of the sun , harf -letter , anokha -unique)

हर कड़वे  एहसास को मीठा मेरे ख़यालों  ने ही बनाया है,
तपिश की चुभन को  ख़त्म बूंदों की खुशबू ने ही किया है

'Coffee' के साथ हर्फों का रिश्ता ही कुछ अनोखा  है


Yayavar si fitrat ho gayi hai khayalon ki
mushkilein badh jati hain jab tum unme hote ho ..........
(Yayavar- Itinerant, Nomad...Fitrat - Nature )

यायावर सी फ़ितरत हो गयी है ख़यालों की
मुश्किलें बढ़ जाती हैं जब तुम उनमे होते हो ..........

Gam is baat ka nahin ki kisi din chale jana hai
fikra is baat ki hai ki tum yaad rakhoge ki nahin...........

Hum to rooh ka libaas odh kar bhi khaak se apna dil le jayenge
(rooh -soul , libaas -attire,garb.... khaak - ash )

ग़म  इस बात का नहीं की किसी दिन चले जाना है
फ़िक्र  इस बात की है कि तुम याद रखोगे की नहीं........

हम तो रूह का लिबास ओढ़  कर भी ख़ाक से अपना दिल ले जाएँगे

Ek guzarish dil se zabaan tak ane ko betaab hai
chalo aaj dil ko phir thoda bahla liya jaye

एक गुज़ारिश दिल से ज़बान तक आने को बेताब है
चलो आज दिल को फिर थोड़ा बहला लिया जाए

Aisa kyun lagta hai ki yahin kahin aas-paas ho
aisa kyun lagta hai ki waqt thahar gaya hai...........

ऐसा क्यूँ लगता है की यहीं कहीं आस-पास हो
ऐसा क्यूँ लगता है की वक़्त ठहर गया है...........


Tum thakte nahin ho kitaab likhte likhte
Hum thak jate hain panne palatte palatte

तुम थकते नहीं हो किताब लिखते लिखते
हम थक जाते है पन्ने पलटते पलटते

Kadhwahat na hoti to chashni ka mazaa nahin ataa,
dard na hota to mohabbat bemaani ho jaati

Waise nazm aur sher to 'Uski' marzi se hi mukammal hote hain
(bemaani -meaningless , marzi - consent , mukammal -complete ,consummate)

कड़वाहट ना होती तो चाशनी का मज़ा नहीं आता
दर्द न होता तो मोहब्बत बेमानी हो जाती

वैसे नज़्म और शेर तो 'उसकी' मर्ज़ी से ही मुकम्मल होते हैं


Wednesday, June 05, 2013

SEND SOME RAIN, SEND SOME LOVE..........

I always find this straight line (apparently) separating the sky from the earth, a line which is adorably called  'horizon' , very inspiring but frustratingly unattainable...What could be the reason ? Quite possibly, my past rather our past is hiding beyond that line!! The magnetic pull that I experience everytime I am on my balcony could be because of that past - childhood, adolescence, youth et al....the best moments, unquestionably. I strongly believe time never stops, never ends ...it either dons the garb of your past,or your present or lurks around every corner as your future,  not always with an intention to harm you though...We can try and beckon some moments from the past, no !! I  reckon , time has ears and a heart...( blabbering again ??...nooooo) 


The line where the twain meet
the green and the blue
beyond that?
Resides the girl that was me
my Cinderella shoes and 
my Snowwhite frock,
satin ribbons and lacy roses,
warmth of hand-knitted sweaters,
the dreams in all shades,
the fireflies which shone like stars,
the glistening droplets on the Taro leaves.
The clouds that were mine once
are now playing hide and seek .
Somewhere behind that curtain
is hiding the messenger boy,
and the droplets that melt relentlessly 
into streams of profound joy 
My heart beckons you little girl
please come or send some love
the soul is thirsty and earth is parched
send some rain,send some love

pic-google

Monday, June 03, 2013

TILASM....THE MAGICAL SPELL.... / तिलस्म ......



Us din
aisa kyun laga ki
jate jate kuchh raaz
apne saath liye ja rahe ho,
kuchh ehsaas dil ke kone mein
chhupakar le ja rahe ho....

Stambhit
ek nirvaak agantuk main,
mook darshak ki tarah,
tumhare manoram roop ko niharti
kyun nahin samajh payi 
tumhare tilasm ko?
karsaazi ko?

Achanak
sindoori nabh ke kone se
ardh-chandra ne kivad khola.
Samaksh paya pranay nivedan karta
satrangi indradhanush.
Na boondein,na megh, phir bhi tum?

Maine
anchal mein baandh tumhe,
muskurate ansuon ko samet liya.
Zahan mein kiya sadaa ke liye chitrit
us godhuli bela ka soundarya
aur anginat ankahe shabd,
jo ban gaye aajivan ke sangi...

Jante ho,
toot gaya tumhara tilasm
bhram mein uljhe mere khayal,
tandra ke jaal se nikalkar,
ab syahi mein doob,
likhna chahte hain,
ek poorn kavita....

उस दिन
ऐसा क्यूँ लगा कि 
जाते जाते कुछ राज़
अपने साथ लिए जा रहे हो,
कुछ एहसास दिल के कोने में
छुपाकर ले जा रहे हो....

स्तंभित 
एक निर्वाक आगंतुक, मैं
मूक दर्शक की तरह
तुम्हारे मनोरम रूप को निहारती
क्यूँ नहीं समझ पाई 
तुम्हारे तिलस्म को?
कारसाज़ी को?

अचानक 
सिंदूरी नभ के कोने से,
अर्ध-चंद्र ने किवाड़ खोला,और 
समक्ष पाया प्रणय निवेदन करता
सतरंगी इंद्रधनुष.
ना बूँदें,ना मेघ, फिर भी तुम?

मैने
आँचल में बाँध तुम्हें,
मुस्कुराते आँसुओं को समेट लिया.
ज़हन में किया सदा के लिए चित्रित
उस गोधुलि बेला का सौंदर्य
और अनगिनत अनकहे शब्द
जो बन गये आजीवन के संगी ...

जानते हो,
टूट गया तुम्हारा तिलस्म,
भ्रम में उलझे मेरे ख़याल,
तंद्रा के जाल से निकलकर
अब स्याही में डूब,
लिखना चाहते हैं,
एक पूर्ण कविता...

(Pic courtesy google)




Saturday, June 01, 2013

VIBGYOR



 A sudden urge to walk my dog on the terrace...a beautiful sunset, an orangish sky, the sun suddenly seeming so humane as if trying to strike a conversation with me...and then it happened !! Someone or something tells me to turn around and there you are ! A picturesque and lively Vibgyor ...a flamboyant rainbow , splashing the joie de vivre of its seven colours from one end to the other and holding me a captive. It was as if  the limitless was telling me 'see , I can also write poetry' ....and how !! By the time I managed to reconnect with realism and decided to share the view with my better half and capture it permanently, it vanished.... Awestruck, I muttered 'God is so kind' ...
I did not strive even an iota to decipher the implication or the rationale behind such a fascinating occurrence at that point (16th May, 2013) but later ,that is precisely after two days, when I suffered a sudden and ferocious attack of bronchospasm and shortness of breath (respiratory distress) which almost choked me to death, I did manage to put all the pieces together and solve the puzzle...His kind-heartedness and heartlessness are never without any rhyme or reason. We should not take our life for granted ,because the vice versa is not at all fun.
Life has its own unique way of teaching us lessons from time to time,in a subtle or emphatic manner. Sometimes, it does not even bother to notify us. Something suddenly happens and we are pushed into the ocean of queries, wondering about the incessant 'whys' and 'hows'. We do succeed in finding the answers,or should I say we often succeed in manipulating the answers according to our convenience.'This happened because I had hurt him/her', or 'they suffered because they had started boasting too much of late', so on and so forth. But we often overlook the de facto.... life is way too powerful and way too complex an entity for us to comprehend. Life can hear us, life can react and life can make us dance to the tune of its choice, and we, the mortals, can only stare in disbelief or appreciate its bravado.
It is very difficult to presuppose the nature and face of death until you have seen it. Most of the time those who have seen it are never able to describe it because they are transported to 'the other side of the life, into the realm of spirits ' after their encounter that is. Luckily for me, I have survived that brief but terrible encounter with the other side of life. I can now describe the face,the attitude and the complexion of death. Believe me ,Death is not handsome, neither is he fair ,he is faceless yet has penetrating eyes, yes 'he' because it has a voice which is distinctly masculine, but Death has a heart of gold...he loves the language of love, he loves cajoling, he loves the weak, he loves to give if you are ready to beg with sincerety. if you have the ardency in your voice which can evoke the goodness in him then you can conquer  him.
Life has given me a second chance for the first time and I am going to cherish this moment for the rest of my life till death knocks again. For the first time I realised that a person is able to self-introspect better when confined to the four walls of a hospital room. Amidst the tinkling sound of various medicine bottles,needlles and other equipments, with full concentration, you will also get to hear the footsteps of life and death which are tiptoeing outside the wards with two things on their lips, a naughty smile and silence.
With every intravenous dose of antibiotic my body was afflicted with an unbearable pain.This oft-repeated pain made me a stronger person and reinstated my faith in the power of Karma, and the entire cycle of cause and effect was thus fortified by this faith. 

SOME OF MY FAVOURITE POSTS

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...