Followers

Saturday, June 28, 2014

YE AATE ZAROOR HAIN..../ ये आते ज़रूर हैं....


Kabhi payal ki tarah,
khanakte huye.
Kabhi paon mein chhale liye,
aate zaroor hain.
Jagti ankhon mein,
Neend mein khoi ankhon mein,
aate zaroor hain.
Jane kyun ye sapnoN jaisi yadein,
ye yadon mein badalte sapne,
dastak dete hain mehman bankar.
Us waqt jab,
na hum so rahe hote hain,
na hum jag rahe hote hain,
hote hain bas,
ik anchinhe khumar mein,
ye aate zaroor hain.....

कभी पायल की तरह खनकते हुए,
कभी पाँव में छाले लिए,
आते ज़रूर हैं।
जागती आँखों में,
नींद में खोई आँखों में,
आते ज़रूर हैं।
जाने क्यूँ ये सपनों जैसी यादें,
ये यादों में बदलते सपने,
दस्तक देते हैं मेहमान बनकर।
उस वक़्त जब,
न हम सो रहे होते हैं,
न हम जग रहे होते हैं,
होते हैं बस,
एक अनचीन्हे ख़ुमार में,
ये आते ज़रूर हैं......




4 comments:

SOME OF MY FAVOURITE POSTS

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...