Followers

Showing posts with label HINDI / URDU COMPOSITIONS. Show all posts
Showing posts with label HINDI / URDU COMPOSITIONS. Show all posts

Thursday, February 16, 2017

BACHPAN/ बचपन

Hai na
Bilkul zinda
Saans leta hua
Mera bachpan
Zahan mein, dil mein
Har saans ke saath
Dhadakta hua
Sundar sa bachpan...

Hai na
Ek bachpan aur bhi
Chai bechta hua
Gari saaf karta hua
Bartan maanjta hua
Bheekh mangta hua
Chori karta hua
Bandook chalata hua
Khud ko bechta hua....

Par
Saans leta hua
Dhadakta hua
Bilkul mere aur
Tumhare bachpan ki tarah.....

है न
बिलकुल ज़िंदा
सांस लेता हुआ
मेरा बचपन
ज़हन में, दिल में
हर साँस के साथ
धड़कता हुआ
सुन्दर सा बचपन।

है न
एक बचपन और भी
चाय बेचता हुआ
गाड़ी साफ़ करता हुआ
बर्तन माँजता हुआ
भीख माँगता हुआ
चोरी करता हुआ
बन्दूक चलाता हुआ
खुद को बेचता हुआ....

पर
साँस लेता हुआ
धड़कता हुआ
बिलकुल मेरे और
तुम्हारे बचपन की तरह....

#14thNovember

Saturday, November 08, 2014

NA KAVITA NA KAHANI / न कविता न कहानी...



Na kavita na kahani
Bas kuch shabd
Kuchh jatilta
Bolti hui khamoshi
Cheekhta hua soonapan.

Na kavita na kahani
Bas kuchh lafz
Kuchh uljhane
Kolahal mein chuppi
Bheed mein sannata.

Na kavita na kahani
Bas yun hi
Kuchh dil ka bojh
Ankhon se aansoo
Aansuon se syahi
Syahi se?
Na kavita, na kahani....

न कविता न कहानी
बस कुछ शब्द
कुछ जटिलता
बोलती हुई ख़ामोशी
चीख़ता हुआ सूनापन

न कविता न कहानी
बस कुछ लफ़्ज़
कुछ उलझनें
कोलाहल मेँ चुप्पी
भीड़ मेँ सन्नाटा

न कविता न कहानी
बस यूँ ही
कुछ दिल का बोझ
आँखों से आँसूं
आँसुओं से स्याही
स्याही से?
न कविता, न कहानी....


Sunday, October 26, 2014

SEEKH.../ सीख.....




Jitni bar toota hai dil hamara,
utni bar seekha hai hamne kuch naya.

जितनी बार टूटा है दिल हमारा,
उतनी बार सीखा है हमने कुछ नया...




Friday, September 26, 2014

SHABD ... / शब्द....


Shabd....
Bikhre huye yahan wahan
kahin kisi kagaz pe,
kisi kitaab ke akhiri panne par,
daraj ke kisi kone mein.
Dubke huye, sahme huye,
kabhi yun hi kisi soch mein,
ek adh chai coffee mein bhi
chini ki tarah ghule huye...

Shabd....
Lamhon ke saath mit tey huye,
kabhi rasoi mein, kabhi balish pe,
kabhi kisi adhi kavita ka hissa,
kabhi kisi kahani ke adhurepan mein.

Shabd...
Ek toofan ko likhne ka zariya
bawandar hai, samandar hai.
Shabd hain toh tilasma hai,
shabd hain toh hum hain....

शब्द..
बिखरे हुए यहाँ वहाँ,
कहीं किसी कागज़ पे,
किसी किताब के आखिरी पन्ने पर,
दराज के किसी कोने में।
दुबके हुए, सहमे हुए,
कभी यूँ ही किसी सोच में,
एक आध चाय कॉफ़ी में भी
चीनी की तरह घुले हुए...

शब्द....
लम्हों के साथ मिटते हुए,
कभी रसोई में, कभी बालिश पे,
कभी किसी आधी कविता का हिस्सा,
कभी किसी कहानी के अधूरेपन में।

शब्द....
इक तूफ़ान को लिखने का ज़रिया,
बवंडर है, समन्दर है।
शब्द हैं तो तिलस्म है,
शब्द हैं तो हम हैं.......

( Daraj= drawer, Bawandar= tornado, whirlwind, Balish= pillow, Tilasma= magic... )

Wednesday, September 10, 2014

CHAAND - RAAT…. / चाँद - रात.…



Ik chaand-raat yoon ki
chaand hai par nahi bhi.
Ik chaand-raat yoon ki
badal mujhse hi poochhe paheli....

Ik chaand-raat ki khatir
bheega dil doobkar yadon mein.
Ik chaand-raat yoon ki
chandni ghul gayi syahi mein......

Ik chaand-raat ki khatir
main mahua se madak.
Ik chaand-raat yun ki
tumhe likhti rahi sahar tak.....

इक चाँद-रात यूँ कि
चाँद है पर नहीं भी।
इक चाँद-रात यूँ कि
बादल मुझसे ही पूछे पहेली......

इक चाँद-रात की ख़ातिर
भीगा दिल डूबकर यादों में।
इक चाँद-रात यूँ कि
चाँदनी घुल गयी स्याही में.....

इक चाँद-रात की ख़ातिर
मैं महुआ से मादक।
इक चाँद-रात यूँ कि
तुम्हें लिखती रही सहर तक.....

Monday, August 18, 2014

YAAD AATE HO... / याद आते हो.....


Yun hi ek jhonka guzar jata hai
tum yaad aate ho
yun hi almari se kuch girta hai
tum yaad aate ho

yadein chhupi hai jabin ki shiknon mein
yadein chhupi hain chehre ki silwaton mein
kuch aate hue palon mein
kuch jate hue palon mein
tum yaad aate ho

kabhi baraste hue mausam mein
kabhi pareshan karti umas mein
jab hoti hai sarsarahat patton ki
ya hote ho, bas inch bhar door hi
tum yaad aate ho...............










............... यूँ ही एक झोंका गुज़र जाता है
तुम याद आते हो
यूँ ही अलमारी से कुछ गिरता है
तुम याद आते हो


यादें छुपी हैं जबीं की शिकनों में
कभी बरसते हुए मौसम में
यादें छुपी हैं चेहरे की सिलवटों में
कुछ आते हुए पलों में
कुछ जाते हुए पलों में
तुम याद आते हो

कभी परेशान करती उमस में
जब होती है सरसराहट पत्तों  की
या होते हो, बस इंच भर दूर ही
तुम याद आते हो.





PIC COURTESY- ANWESHAN BOSE

Thursday, July 17, 2014

BARISHEIN.../ बारिशें...



Barishein hoti rahin, kabhi musalsal, kabhi tham-tham ke,
hum boondon mein kabhi mausiki, kabhi sargoshiyan dhoondte rahe....





बारिशें होती रहीं, कभी मुसलसल, कभी थम-थम के,
हम बूँदों में कभी मौसिकी, कभी सरगोशियाँ ढूँढते रहे...

Friday, July 04, 2014

HISAAB..../ हिसाब.....




Hisaab mein galtiyaan kal bhi karte thhe, aaj bhi karte hain,
chalo achcha hai, jana toh akhir khali haath hi hai....






हिसाब में गलतियाँ कल भी करते थे, आज भी करते हैं,
चलो अच्छा है, जाना तो आख़िर ख़ाली हाथ ही है...








Pic courtesy- mcsmith.blogs.com


Thursday, July 03, 2014

YAADEIN..../ यादें.....


Khalipan mein tumhari yadon ka satana lazmi hai,
hadein toot ti hain jab masroofiyat mein bhi tum yaad aane lago......

ख़ालीपन में तुम्हारी यादों का सताना लाज़मी है,
हदें टूटती हैं जब मसरूफ़ियत में भी तुम याद आने लगो.....

Monday, June 30, 2014

KHAMOSHI..../ ख़ामोशी....



Likh aye thhe ham thodi khamoshi, kuch kavitayein, ret par,
na jane kyun use mitakar tum de gaye ek khali seep

Shayad nahin rakhna chahte ho kuchh bhi apne paas...khamoshi bhi nahin...




लिख आये थे हम थोड़ी ख़ामोशी, कुछ कवितायेँ, रेत पर,
न जाने क्यूँ उसे मिटाकर तुम दे गए एक ख़ाली सीप

शायद नहीं रखना चाहते हो कुछ भी अपने पास...ख़ामोशी भी नहीं...


PIC BY APARNA BOSE (AT PURI- ODISHA)

Saturday, June 28, 2014

YE AATE ZAROOR HAIN..../ ये आते ज़रूर हैं....


Kabhi payal ki tarah,
khanakte huye.
Kabhi paon mein chhale liye,
aate zaroor hain.
Jagti ankhon mein,
Neend mein khoi ankhon mein,
aate zaroor hain.
Jane kyun ye sapnoN jaisi yadein,
ye yadon mein badalte sapne,
dastak dete hain mehman bankar.
Us waqt jab,
na hum so rahe hote hain,
na hum jag rahe hote hain,
hote hain bas,
ik anchinhe khumar mein,
ye aate zaroor hain.....

कभी पायल की तरह खनकते हुए,
कभी पाँव में छाले लिए,
आते ज़रूर हैं।
जागती आँखों में,
नींद में खोई आँखों में,
आते ज़रूर हैं।
जाने क्यूँ ये सपनों जैसी यादें,
ये यादों में बदलते सपने,
दस्तक देते हैं मेहमान बनकर।
उस वक़्त जब,
न हम सो रहे होते हैं,
न हम जग रहे होते हैं,
होते हैं बस,
एक अनचीन्हे ख़ुमार में,
ये आते ज़रूर हैं......




Wednesday, June 18, 2014

KHAYAL.../ ख़याल.....



Auron ko samajhne mein yoon hi waqt zaya kiya hamne,
Khud ko samajh liya hota, toh bechainiyaan kam hoti hamari.....

औरों को समझने में यूँ ही वक़्त ज़ाया किया हमने,
ख़ुद को समझ लिया होता, तो बेचैनियाँ कम होतीं हमारी.....

Thursday, June 12, 2014

SATH SATH..../ साथ साथ...



Kabhi tum sawaal, kabhi hum.
Kabhi tum jawaab, kabhi hum.
Sawaalon ke jawab,
jawaabon pe sawaal,
Shayad yahi hai behna,
Sath sath, saans lete huye.....

कभी तुम सवाल, कभी हम.
कभी तुम जवाब, कभी हम.
सवालों के जवाब,
जवाबों पे सवाल,
शायद यही है बहना,
साथ साथ, साँस लेते हुए....

Friday, April 25, 2014

BAS KAH DIYA …/ बस कह दिया …



Raat guzar gayi aur humein maloom nahin
khwabon ke rahguzar se aur humein maloom nahin.......

Hum saans to lete rahe har pal
kyon lete rahe humein maloom nahin.......

Ek nazm likhne ki koshish jo ki humne
dil safe par kab utra humein maloom nahin...

Saaz hathon mein thaam toh liya humne
raag koun sa chereN humein maloom nahin....

Bas kah diya ki tum jaan ho meri
kyun kaha, humein maloom nahin......


रात गुज़र गयी और हमें मालूम नहीं
ख़्वाबों के रहगुज़र से और हमें मालूम नहीं.......

हम साँस तो लेते रहे हर पल
क्यों लेते रहे हमें मालूम नहीं.......

एक नज़्म लिखने की कोशिश जो की हमने
दिल सफ़े पर कब उतरा हमें मालूम नहीं...

साज़ हाथों में थाम तो लिया हमने
राग कौन सा छेड़ें हमें मालूम नहीं....

बस कह दिया की तुम जान हो मेरी
क्यूँ कहा हमें मालूम नहीं ……

Monday, April 21, 2014

CELLOPHANE../ सेलोफेन....



Woh jo ek cellophane jaisa kuchh hai na
hamare tumhare jazbaton ke theek beechobeech
use cheer ke agar koi awaaz
rooh tak pohanch jati toh?
Ya koi mulayam sham use pighla deti..
Yeh zubaan bematlab na haklati
na taish mein
na jazbati hokar....

Woh shayad kuchh harf hain
ya phir guchche hain lafzon ke
aise uljhe hain manon
oon ke unsuljhe lachche hon.
Sawal ek aur sahi jawab bhi ek.
Yeh zubaan bematlab na haklati
na jawab dhoondhne mein
na galat jawabon mein ulajhkar.......




वो जो एक सेलोफेन जैसा कुछ है न
हमारे तुम्हारे जज़्बातों के ठीक बीचोबीच
उसे चीर के अगर कोई आवाज़
रूह तक पहुँच जाती तो?
या कोई मुलायम शाम उसे पिघला देती..
यह ज़ुबान बेमतलब ना हकलाती
न तैश में
न जज़्बाती होकर....

वो शायद कुछ हर्फ़ हैं
या फिर गुच्छे हैं लफ़्ज़ों के
ऐसे उलझे हैं मानों
ऊन के अनसुलझे लच्छे हों
सवाल एक और सही जवाब भी एक
यह ज़ुबान बेमतलब ना हकलाती
न जवाब ढूँढने में
न ग़लत जवाबों में उलझकर.......




PIC COURTESY- GOOGLE

Monday, April 07, 2014

TOOFAAN / तूफ़ान ……



Is waqt
shant, gambheer yah bimb
tej, aag ki tapish jaisa
ugal raha hai krodh,
kuch antardwandh,
kuch ahankar ka.
kuch us kshamata ki
jo chahe toh rakh kar de.....

Hai intezar
us toofan ka
jo kahar dha jayega,
boondon se bhigokar,
ek ek kan ko.
vidhwans ka doosra rukh
darakhton ke chehron pe..

Ek ore navjeevan,
ankurit, prasfutit.
aur kuch sookhe patte
kuchle prem ki tarah
bikharte hue
khatm hote hue........






इस वक़्त
शांत, गंभीर यह बिंब
तेज, आग की तपिश जैसा
उगल रहा है क्रोध,
कुछ अंतर्द्वंध 
कुछ अहंकार का.
कुछ उस क्षमता की
जो चाहे तो रख कर दे.....

है इंतज़ार
उस तूफ़ान का
जो कहर ढा जाएगा,
बूँदों से भिगोकर,
एक एक कण को.
विध्वंस का दूसरा रुख़
दरख्तों के चेहरों पे..

एक ओर नवजीवन,
अंकुरित,प्रस्फुटित .
और कुछ सूखे पत्ते
कुचले प्रेम की तरह
बिखरते हुए
ख़त्म होते हुए........



pic - www.panoramio.com2613 × 1871Search by image
Colors Of The Sun.....Santorini

Sunday, February 09, 2014

HAI INTEZAAR..../ है इंतज़ार....



Hai intezaar un barishon ka jab geele harf nagmein gungunayenge
Hai intezaar un boondon ka jab sondhi khushbu ayegi khwaabon se....

है इंतज़ार उन बारिशों का जब गीले हर्फ़ नग्में गुनगुनायेंगे
है इंतज़ार उन बूंदों का जब सोंधी ख़ुशबू आयेगी ख़्वाबों से.....









pic courtesy- diwakarkaushik.wordpress.com

Tuesday, January 07, 2014

ZINDAGI... / ज़िंदगी....



Anginat baar todna chaha
toot bhi gaye
jarjar ho gaye
phir se lau jali
maddham
hua hamara naya janm
usne phir toda
hum phir toote
is baar bhi dhans gaye
uske karz tale
phir lahlaha uthe

Ye toda bhi usne
joda bhi usne
gira ke phir uthaya bhi usi ne hai
yahi toh zindagi ki fitrat hai.......


अनगिनत बार तोड़ना चाहा
टूट भी गये
जर्जर हो गये
फिर से लौ जली
मद्धम
हुआ हमारा नया जन्म
उसने फिर तोड़ा
हम फिर टूटे
इस बार भी धँस गये
उसके क़र्ज़ तले
फिर लहलहा उठे

ये तोड़ा भी उसने
जोड़ा भी उसने
गिरा के फिर उठाया भी उसी ने है
यही तो ज़िंदगी की फ़ितरत है.......

Monday, December 09, 2013

HUM KABHI DIL KI TOH KABHI DIMAG KI SUNA KARTE HAIN.. हम कभी दिल की तो कभी दिमाग़ की सुना करते हैं



Raakh bankar uda tha jazba
jo jala tha dard-e-muhabbat ke saath

ye aur baat hai ki jahan woh raakh bicha, wahan gul-e-sukun khilte hain


Aandhi toofanon ka ana-jana
rasmoriwaz hai sadiyon purana

humne to hawaon mein bhi shama jalana seekha hai


Dilodimag ke guftgu ke silsile
chalte rahte hain bakhubi shaam-o-sahar

hum kabhi dil ki toh kabhi dimag ki suna karte hain


Aisa nahin ki hum kamzor ya kamzarf hain
aisa nahin ki hum toot kar bikhar jate hain

jab bhi waqt milta hai, hum bikhre hue motiyon ko piro lete hain


राख बनकर उड़ा था जज़्बा
जो जला था दर्दे-मुहब्बत के साथ

ये और बात है की जहाँ वो राख बिछा, वहाँ गुले-सुकूँ  खिलते हैं


आँधी तूफ़ानों का आना-जाना
रस्मोरिवाज़ है सदियों पुराना

हमने तो हवाओं में भी शमा जलाना सीखा है


दिलोदिमाग़ के गुफ्तगू के सिलसिले
चलते रहते हैं बख़ूबी शामो-सहर

हम कभी दिल की तो कभी दिमाग़ की सुना करते हैं


ऐसा नहीं की हम कमज़ोर या कमज़र्फ  हैं
ऐसा नहीं की हम टूट कर बिखर जाते हैं

जब भी वक़्त मिलता है, हम बिखरे हुए मोतियों को पिरो लेते हैं

Monday, September 23, 2013

LAMHA... / लम्हा....



Ik lamha jo guzar gaya
kis raah gaya, kyon gaya?
Raahgeer hai kis manzil ka?
Muskurata hua gaya ki
berukhi mein dooba hua
Anmana sa ya kuchh badbadata hua
Bada beadab tha, ruka nahin
JabiN ke shikan ko dekha tak nahin
Lamha tha bas guzar gaya
Kuch harfon ko
apne saath le gaya
Lamha tha, bas guzar gaya....




इक लम्हा जो गुज़र गया
किस राह गया, क्यों गया?
राहगीर है किस मंज़िल का?
मुस्कुराता हुआ गया की
बेरूख़ी में डूबा हुआ
अनमना सा या कुछ बड़बड़ाता हुआ
बड़ा बेअदब था, रुका नहीं
जबीं के शिकन को देखा तक नहीं
लम्हा था बस गुज़र गया
कुछ हर्फ़ों को
अपने साथ ले गया
लम्हा था, बस गुज़र गया....




PIC- melissagalt.com 
TEXT- APARNA BOSE

SOME OF MY FAVOURITE POSTS

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...