Followers

Showing posts with label HINDI WRITE-UPS. Show all posts
Showing posts with label HINDI WRITE-UPS. Show all posts

Saturday, November 08, 2014

SANGEET.../ संगीत....


जब लोगों की बातें दिल दुखाने लगे तो संगीत ही वो मलहम है जो ज़ख़्मों को भरने का काम करता है.
Abida Paween: Raga Malkauns - VHS rip: http://youtu.be/8sPoYrURflE

Wednesday, July 30, 2014

ROTI, KAPDA AUR MAKAAN.... / रोटी, कपड़ा और मकान....


रोज़ ब्लॉग खोलती हूँ फ़िर बहुत कुछ लिखती हूँ, और बहुत बार मिटा देती हूँ। सुबह का अखबार देखती हूँ या खबरें सुनती हूँ तो यही महसूस होता है की आज इतना ही काफ़ी है कि मैं और मेरे परिवार के सभी लोग जिंदा हैं। हालात ऐसे हैं की अब साड़ी, गहने, विदेश भ्रमण ... सब बेकार के शौक़ लगते हैं। दहशत और अनिश्चयता के ऐसे दिल दहलाने वाले वातावरण में साँसों का चलना ही काफ़ी लगता है।
कल लोगों ने खूब आनन्द और हर्षोल्लास सहित ईद का त्यौहार मनाया। पर दुनिया के किसी कोने में कई परिवारों ने इस वर्ष ईद अपने प्रियजनों के कब्रों के पास बैठकर मनाई।
जी, मैं गाज़ा के बारे में ही बोल रही हूँ। और जेहन में उन लीगों की बातें भीं घूम रही हैं जो अपने प्राण अकाल मृत्यु के हातों बली चढ़ाने के लिए मजबूर हो गए। एक सप्ताह में तीन-तीन विमान दुर्घटनायें, इनमें से एक किसी आतंकी हमले का शिकार। इतनी सस्ती है ज़िन्दगी? कोई मोल नहीं जीवन का? और हाँ एक विमान जो अभी तक किसी को मालूम नहीं कहाँ गायब हो गया!!
Some say war is bad for economy... but the western concept is exactly the opposite. They say war is good for economy. And humanity? The children? Is it okay to kill children in the name of war? The innocent lives lost in these plane crashes were not meant to perish like this. They had hopes and dreams..what about them?? But as my husband always tells me " don't waste your energy and also don't lose your patience by pondering over something which is beyond your control "... True, but not easy.
All that remains after a war and merciless killings is innumerable orphans, childless parents, rubble and debris in place of a beautiful house. Endless days of mourning and bitterness..and thousands of burnt and charred dreams..
To err is human and to kill? Is war the only solution?
Closer home in every state we have such barbaric activities taking place almost every hour that a powerless citizen like me feels helpless. Writing about these on Facebook or posting on blog is not enough but how else do we express our concern.
कहीं भी, किसी लड़की या औरत की आबरू लुटती है तो ऐसा महसूस होता है जैसे मेरा ही अपमान हुआ हो। कितना हिंस्र हो गया है इंसान, कितने निर्मम तरीके से खून और बलात्कार करता है। 100 में से 99 महिलायें चाहती हैं की इन पिशाचों को सरकार मृत्यु दंड दे पर नहीं, सरकार तो पहले इन पर मुकद्दमा चलाकर वर्षों तक देश के नागरिकों का पैसा बर्बाद करेगी फ़िर सोचेगी।
Honestly, nowadays the well being of my family and friends is the utmost thing in my life. Life is short we know but terrorist attacks, wars and hooliganism has made it unpredictable beyond our apprehension.
रोटी, कपडा और मकान- इतना है तो बहुत है... ज़िन्दगी की बाकी खामियों को सुधारने के लिए अपनों का प्यार है न !!


Links-http://quemas.mamaslatinas.com/in_the_news/127852/malaysia_airlines_little_boy_had

http://m.indiatoday.in/story/gaza-eid-celebrations-death-toll-israel/1/374647.html










Picture Courtesy- Google

Saturday, December 28, 2013

KUHASA..../ कुहासा....

Kuhase ka seena cheerkar nikalna chahta hai sooraj, batana chahta hai wo zinda hai. Kuhase ke is paar main, janti hoon wo zinda hai magar chahti hoon kuhasa use aaj poori tarah zinda na hone de.
Kuhase se chhan kar ane wali dhoop, dhoop to hai magar jalane waali nahin, balki narm, mulayam, pashmine jaisi hai. waqt yahin thahar jaye toh? Thahar nahin sakta, par uske thaharne ka bhram ho jaye toh isme harz kya !!



कुहासे  का सीना चीरकर निकलना चाहता है सूरज, बताना चाहता है वो जिंदा है।  कुहासे के इस पार मैं, जानती हूँ वो जिंदा है मगर चाहती हूँ कुहासा उसे आज पूरी तरह जिंदा न होने दे. कुहासे से छनकर आने वाली धूप,
धूप तो है मगर जलाने वाली नहीं, बल्कि नर्म, मुलायम, पश्मीने जैसी है. वक़्त यहीं ठहर जाये तो? ठहर नहीं सकता, पर उसके ठहरने का भ्रम हो जाये तो इसमें हर्ज़ क्या !!



PHOTO COURTESY- SHIBAJI BOSE

Sunday, November 10, 2013

MAINA KI KAHANI ...KABHI DHOOP, KABHI CHHANV / मैना की कहानी ...कभी धूप, कभी छाँव



मैना की हँसती-बोलती आँखों में पहली बार नमी देख दिल टूट गया , सच!! कुछ पूछने से कहीं रो न पड़े इसलिए सुबह-सुबह आँचल ने कुछ पूछा भी नहीं. दो सालों से काम कर रही है उसके घर में, कभी ऐसा नहीं हुआ इसीलिए आँचल थोड़ी हैरान भी थी. सोचा दोपहर को पूछेगी,तब तक शायद मैना का मन शांत हो जाए.

सुबह से कभी कहानी की किताब, कभी रसोई, इसी तरह दोपहर का वक़्त आया तो घड़ी की ओर देखने लगी. मैना एक साधारण सी कामवाली बाई थी पर इन दो सालों में आँचल के जीवन का एक अहम हिस्सा बन चुकी थी. रॉकिंग चेयर पे बैठे- बैठे ख़यालों में डूबी आँचल की तंद्रा अचानक कॉलिंग बेल की आवाज़ से टूटी. दरवाज़ा खोलते ही  मैना की आँखों को पढ़ने की कोशिश करने लगी पर कुछ ख़ास समझ न पाई.

निश्चय किया पहले उसे सारा काम निबटाने देगी उसके बाद पूछेगी. पर मैना भी शायद मन हल्का करने का एक मौका खोज रही थी. बर्तन मांजते- मांजते, बिना कोई भूमिका बाँधे , क्रंदित स्वर में बोल पड़ी- "जानती हो दीदी, आज मुझे लगा जैसे बेटी को स्कूल भेजकर मैने ग़लती की है. पढ़ाई- लिखाई सीखकर कितनी अहंकारी हो गयी है. इतना गुरूर की असलियत को नकारने लगी है. आज जिस काम की वजह से वो शिक्षित हो पाई है, समाज में सम्मानजनक स्थान पाने के काबिल बन पाई है, आज उसी काम का उसने अपमान किया है. बर्तन मांजना, कपड़े धोना, उसके लिए अपने स्तर से नीचे गिर जाने जैसा है. मेरे हाथ में कल चोट लगी थी इसीलिये उससे कहा कि मेरी थोड़ी मदद कर दे. मदद तो दूर की बात मेरे साथ उपर आपके घर तक आने से मना कर दिया. बाप के डर से मेरे साथ आ तो गयी मगर कोई भी काम करने से साफ मना कर दिया. कहती है उसने कामवाली बनने के लिए पढ़ाई-लिखाई नहीं की है ".

एक साँस में कहती जा रही थी और फिर रो पड़ी. आँचल हतवाक् थी. मैना कितना सोचती है अपने बच्चों के लिए, कितनी परिश्रमी है. दिन के उजाले से लेकर गोधुलि बेला तक एक मिनट भी सुस्ताये बिना पाँच लोगों के यहाँ काम करती है और उसकी संतान ही इतनी असंवेदनशील !! क्या कहे, समझ नहीं पा रही थी, बस इतना ही बोल पाई- " शांत हो जाओ, कुछ खा लो ".

पढ़ लिखकर दूसरों के घरों में बर्तन मांजना , झाड़ू-पोंछा लगाना शायद तोड़ा मुश्किल ही है. पर मैना की बेटी यह बात अपनी माँ को दूसरे ढंग से समझाती तो अच्छा होता. उसने जिस प्रकार अपनी माँ का अपमान किया वो कतई एक शिक्षित और सुलझे हुए इंसान को शोभा नहीं देता.
मनुष्य कितना भी पढ़ लिख ले, सही मायने में सुशिक्षित वही है जो बुलंदियों को छूने के बाद भी वास्तविकता को नहीं नकारता.....




Maina ki hansti-bolti aankhon mein pahli baar nami dekh dil toot gaya , sach!! Kuch poochne se kahin ro na pade isliye subah subah Anchal ne kuch poocha bhi nahin. Do saalon se kaam kar rahi hai uske ghar mein, kabhi aisa nahin hua isiliye anchal thodi hairan bhi thi. Socha dopahar ko poochegi,tab tak shayad maina ka man shaant ho jaye.

Subah se kabhi kahani ki kitaab, kabhi rasoi, isi tarah dopahar ka waqt aya to ghari ki oar dekhne lagi. Maina ek sadhran si kaamwaali bai thi par in do saalon mein aanchal ke jeevan ka ek aham hissa ban chuki thi. Rocking chair pe baithe- baithe khayalon mein doobi aanchal ki tandra achanak calling bell ki awaaz se tooti. Darwaza kholte hi maina ki ankhon ko padhne ki koshish karne lagi par kuch khaas samajh na payi.

Nishchay kiya pahle use saara kam nibtane degi uske baad poochegi. Par maina bhi shayad man halka karne ka ek mouka khoj rahi thi. Bartan maanjte- maanjte, bina koi bhumika bandhe, krandit swar mein bol padi- "jaanti ho didi, aaj mujhe laga jaise beti ko school bhejkar maine galati ki hai. Padhai- likhai seekhkar kitni ahankaari ho gayi hai. itna guroor ki asliyat ko nakaarne lagi hai.aaj jis kaam ki vajah se woh shikshit ho payi hai, samaaj mein sammanjanak sthan pane ke kaabil ban payi hai, aaj usi kaam ka usne apmaan kiya hai. Bartan maanjna, kapde dhona, uske liye apne star se neeche gir jane jaisa hai. Mere haath mein kal chot lagi thi isikliye usse kaha ki meri thodi madad kar de. madad to door ki baat mere saath upar aapke ghar tak ane se manaa kar diya. Baap ke dar se mere saath aa to gayi magar koi bhi kaam karne se saaf manaa kar diya. Kahti hai usne kaamwaali banne ke liye padhai-likhai nahin ki hai ".

Ek saans mein kahti ja rahi thi aur fir ro padi. Aanchal hatavaak thi. maina kitna sochti hai apne bachchon ke liye, kitni parishrami hai. Din ke ujaale se lekar godhuli bela tak ek minute bhi sustaye bina paach logon ke yahan kaam karti hai aur uski santaan hi itni asamvedansheel!! Kya kahe, samajh nahin paa rahi thi, bas itna hi bol payi- " Shaant ho jao, kuch kha lo ".

Padh likhkar doosron ke gharon mein bartan maanjna , jhadu-poncha lagana shayad thoda mushkil hi hai. Par Maina ki beti yah baat apni maa ko doosre dhang se samjhati to achcha hota. Usne jis prakar apni maa ka apaman kiya woh katai ek shikshit aur suljhe hue insaan ko shobha nahin deta.
Manushya kitna bhi padh likh le, sahi mayne mein sushikshit wahi hai jo bulandiyon ko chhune ke baad bhi vaastavikta ko nahin nakarta........


pic- google

Monday, August 05, 2013

USKE JEEVAN KA EK PANNA...../ उसके जीवन का एक पन्ना …





Pahadi ilake ke sannate ko cheerti hui ek awaz lagatar uske kano se takra rahi thi. Use bhor ka intzar tha ,usi ke intzar mein wo raat ke antim prahar se hi shawl odhkar us baans ke bench par baithi hui thi..Door door tak faile gahan andhere mein tim tim jalte- bujhte peele- narangi saikdon bulb ek adbhut manoram drishya ka srijan kar rahe the...shayad roz karte hain par usne toh aaj hi dekha na.
Is manoram drishya se uska man atmavibhor ho utha tha... aisa lag raha tha mano kisi ne darakhton ko taron se jadi dushala odha di ho. Saalon se dabe uske swar mano betab ho uthe the uske kanth se unmukt ho labon pe sajne ke liye.


Achanak uski nazar padi halke narangi aasman par, stabdh rah gayi. Bhor hone ka agaz itna sundar, itna nishabd !! Haan wo teekhi surili dhun abhi bhi moujood thi, pahadi jhinguron ki awaz.Yahan shahar mein bhi ek adh jagah gate honge koi gana par vyast jeevan ki ast-vyastata mein kho jati hain unki dhunein...


Awak, hataprabh wo dekhti rahi 'uske' tilasm ko, wo bikherta gaya kanchanjangha ke lalat par apni abha , aur mugdh nainon se niharti wo us pal ko camera mein kaid karna bhi bhool gayi. Jis suraj ki tapish se use ghrina thi aaj usi suraj se use prem ho gaya tha, gabhir prem.Mantramugdh si dekhti rahi, narangi se laal,phir narangi, phir sunhara aur phir pahad ke shikhar ke peeche se avatarit hota hua surya … adbhut !! Kya ise swarg ki upalabdhi nahin kah sakte? Jannat hi to hai ye....Samay mano tham gaya ho, shayad jahan karishme hote hain wahan samay ka koi astitva nahin hota.


Par dhara pe abhi bhi andhera tha.Roshni apna samay lekar ayegi dhara ko snan karane.Isi beech ek rang birangi titli bench ke ek kone par aa kar baith gayi .Use laga mano kah rahi ho,"kaun ho tum? Meri jagah pe kyon baithi ho?"
Ek pal mein hi mano kahin se bachpan ka alhadpan laut aya, jhat se us titli ko pakda, aur doobne lagi uske rangon mein.


Yaad aa gayi use bachpan ki wo shaitani jab keemti water colour ke tube se rang nikalkar do panno ke beech bikher deti thi aur panno ko thodi der tak kisi kitaab ke niche rakh deti thi ,thodi der baad kitaab ke niche se panno ko nikalkar dekhti thi apna srijan .Isi tarah vibhinna aakar aur rangon ki titliyan banakar apni scrapbook bhara karti thi. Aaj inhi rangon se jeevan ko dobara bharne ka mauka mila hai...

"Memshaab coffee"
Us waqt isse zyada madhur shabd koi aur ho hi nahin sakte the. Rango mein dooba man aur coffee ka saath, isi ko to sukh kahte hain, jo kshanbhanghur hota hai.Titli ko usne azaad kar diya, par titli use tohfa dekar gayi thi. Mahakte hue kuch rang, uske hatheli pe.Kuch kaha bhi hoga par wo samajh nahin payi hogi.Shayad kaha hoga in rangon se apne liye ek indradhanush bana lena.Ya aisa kuch -' sambhal ke rakhna in rangon ko apne rumal mein.Jab man udaas ho aur ankhon mein aansoon to isi rumal se ansuon ko ponchna. Rang wapas laut ayenge jeevan mein...'


Pahadi dhoop ki tapish bhi asahniya hoti hai. Din chadh aya tha, vastavikta mein lautne ka waqt tahara nahin rahta.Usne ek baar aur Kanchanjangha ki or dekha aur waida kiya ki phir ayegi apne jeevan ke kuchh pal sanjha karne. Uski zindagi in palon ka sahara lekar har ik utar chadhav ka saamna kar legi.




पहाड़ी इलाक़े के सन्नाटे को चीरती हुई एक आवाज़ लगातार उसके कानों से टकरा रही थी. उसे भोर का इंतज़ार था ,उसी के इंतज़ार में वो रात के अंतिम प्रहर से ही शॉल ओढकर उस बाँस के बेंच पर बैठी हुई थी..दूर दूर तक फैले गहन अंधेरे में टिम टिम जलते- बुझते पीले- नारंगी सैकड़ों बल्ब एक अद्भुत मनोरम दृश्य का सृजन कर रहे थे...शायद रोज़ करते हैं पर उसने तो आज ही देखा न....इस मनोरम दृश्य से उसका मन आत्मविभोर हो उठा था... ऐसा लग रहा था मानो किसी ने दरख्तों को तारों से जड़ी दुशाला ओढ़ा दी हो. सालों से दबे उसके स्वर मानों बेताब हो उठे थे उसके कंठ से उन्मुक्त हो लबों पे सजने के लिए.


अचानक उसकी नज़र पड़ी हल्के नारंगी आसमान पर, स्तब्ध रह गयी. भोर होने का आगाज़ इतना सुंदर, इतना निशब्द !! हाँ वो तीखी सुरीली धुन अभी भी मौजूद थी, पहाड़ी झींगुरों की आवाज़.यहाँ शहर में भी एक आध जगह गाते होंगे कोई गाना पर व्यस्त जीवन की अस्त-व्यस्तता में खो जाती हैं उनकी धुनें...


अवाक, हतप्रभ वो देखती रही 'उसके' तिलस्म को, वो बिखेरता गया कांचनजंघा के ललाट पर अपनी आभा , और मुग्ध नैनों से निहारती वो उस पल को कैमरे में क़ैद करना भी भूल गयी. जिस सूरज की तपिश से उसे घृणा थी आज उसी सूरज से उसे प्रेम हो गया था, गभीर प्रेम....मंत्रमुग्ध सी देखती रही, नारंगी से लाल,फिर नारंगी, फिर सुनहरा और फिर पहाड़ के शिखर के पीछे से अवतरित होता हुआ सूर्य...अद्भुत !! क्या इसे स्वर्ग की उपलब्धि नहीं कह सकते? जन्नत ही तो है ये....समय मानों थम गया हो, शायद जहाँ करिश्मे होते हैं वहाँ समय का कोई अस्तित्व नहीं होता.


पर धरा पे अभी भी अंधेरा था.रोशनी अपना समय लेकर आएगी धरा को स्नान कराने.…
 इसी बीच एक रंग बिरंगी तितली बेंच के एक कोने पर आ कर बैठ गयी .उसे लगा मानो कह रही हो,"कौन हो तुम? मेरी जगह पे क्यों बैठी हो?"एक पल में ही मानो कहीं से बचपन का अल्हड़पन लौट आया, झट से उस तितली को पकड़ा, और डूबने लगी उसके रंगों में. याद आ गयी उसे बचपन की वो शैतानी जब कीमती वॉटर कलर के ट्यूब से रंग निकालकर दो पन्नों के बीच बिखेर देती थी और पन्नों को थोड़ी देर तक किसी किताब के नीचे रख देती थी ,थोड़ी देर बाद किताब के नीचे से पन्नों को निकालकर देखती थी अपना सृजन… इसी प्रकार विभिन्न आकार और रंगों की तितलियाँ बनाकर अपनी स्क्रैपबुक भरा करती थी. आज इन्ही रंगों से जीवन को दोबारा भरने का मौका मिला है...


" मेमशाब , कॉफी "
उस वक़्त इससे ज़्यादा मधुर शब्द कोई और हो ही नहीं सकते थे. रंगो में डूबा मन और कॉफी का साथ, इसी को तो सुख कहते हैं, जो क्षणभंघुर  होता है.तितली को उसने आज़ाद कर दिया, पर तितली उसे तोहफा देकर गयी थी. महकते हुए कुछ रंग, उसके हथेली पे. कुछ कहा भी होगा पर वो समझ नहीं पाई होगी.शायद कहा होगा इन रंगों से अपने लिए एक इंद्रधनुष बना लेना.या ऐसा कुछ - ' संभाल के रखना इन रंगों को अपने रुमाल में.जब मन उदास हो और आँखों में आँसूं तो इसी रुमाल से आँसुओं को पोंछना. रंग वापस लौट आएँगे जीवन में...'


पहाड़ी धूप की तपिश भी असहनिय होती है. दिन चढ़ आया था, वास्तविकता में लौटने का वक़्त ठहरा नहीं रहता. उसने एक बार और कांचनजंघा की ओर देखा और वायदा किया कि फिर आएगी अपने जीवन के कुछ पल सांझा करने. उसकी ज़िंदगी इन पलों का सहारा लेकर हर इक उतार चढ़ाव का सामना कर लेगी.



Kangchenjunga ( कांचनजंघा )
Mountain
Kangchenjunga is the third highest mountain in the world. It rises with an elevation of 8,586 m in a section of the Himalayas called Kangchenjunga Himal that is limited in the west by the Tamur River and in the east by the Teesta River. Wikipedia


Friday, July 19, 2013

INSAAN NE BHAGWAN KO HI ZAHAR DE DIYA... / इंसान ने भगवान को ही ज़हर दे दिया …



Aaj budi-ma apni badi si steel ki thali liye school ke bahar se hi lout aayi , bina kuchh khaye hi.Lagbhag adhe ghante tak school ke gate par intezar karne ke baad muh latkaye wapas aa gayi. Dhoop bhi bohat tez thi. Rasoighar mein do char aloo pade the, so chawal ke saath unhe bhi ubal liya aur namak - mirch ke sath usi se dopahar ka bhojan kiya. Fir apna kaam nibta kar sone chali gayi. bachche sham ko hi lout-te hain so aram se neem ki thandi chaon tale so gayi. Sham ko bachche loute to kuch poochti isse pahle hi dono fir se basta utha kar tuition padhne chale gaye. Unki ma unhe paise dekar jati thi taki sham ko bhookh lage to kuchh khareed kar kha sakein. Raat ko parishrant bachche loutte hi khana mangne lage ,aur khate hi seedhe bistar par.

Thodi der baad bablu bistar se utar kar aya aur budi-ma ke paas aakar baith gaya. Budi-ma udaas thi ki gusse mein samajhne ki koshish kar raha tha. chuppi ko todte hue budi-ma ne poocha "kyon, kyon nahin ayah tu aj khana dene?" pata hai kitni der tak main dhoop mei khadi ti?" bablu bina kuchh bole apni ma ke paas gaya aur buri-ma ki thali mein roti sabji paroskar use manane laga. samajh nahin pa raha tha kaise bataye use sab kuchh.

Darasal baat kuchh aisi hai, bablu aur sunaina ke school mein muft mein dopahar ka khana diya jata hai. Ya yoon kahein ki zyada se zyada bachche jinke ma-baap gareebi ke karan unhe school nahin bhej paate hain ,unhe kam se kam buniyadi shiksha prapt karwayi ja sake isi uddeshya se 'free mid-day meal' ki yojna sare desh mein lagu ki gayi . Is desh mein sachmuch kuchh itne gareeb hain jinke liye ek waqt ka khana bohat maine rakhta hai.




Bablu aur sunaina bhi aise hi gareeb bachhe hain. sunaina ko jo bhi milta hai khush rahti hai par bablu , gareeb hai to kya, khana wahi khayga jo use pasand ho.School mein to use ek sabji , dal(jise dal kam ,paani zyada bola ja sakta hai) aur chawal hi diya jata tha, jo use beswad lagta tha.ek din usne baingan mein ek keeda dekh liya tha ,bas phir kya tha, zid pe ara raha ki ghar se ya to khana lekar jayga ya paise. Usne hi budi- ma se kaha tha ki dopahar ko thali lekar a jaya kare woh apne hisse ka khana use de diya karega. Apna khana wo dukaan se khareed kar khata tha. aaj bhookhi budi- ma ka gussa hona lajmi tha par bablu ne jab kaaran bataya to budi-ma stabdh rah gayi.

Aaj subah school pohanchte hi dono bhai bahan ne dekha ki kuchh log gate ke bahar dharna diye baithe hain. Paas jakar dekha to usme unke sahpathiyon ke mata -pita bhi the. nara laga rahe the ki school ka store room aur rasoighar unhe turant dikhaya jaye. Darwan ne bachchon se kaha ki andar jakar prarthna ki line mein khade ho jayein au abhibhavakon ko wahin gate par intezar karne ke liye kaha. Bachche chupchap apni apni kaksha ki or chale gaye.




Dopahar ko jab ghanti baji to daudkar sare bachche apni apni thali lekar rasoi ke saamne khade ho gaye par ek adh minute baad hi phir se chillane ki awaz ane lagi. Maang kuchh aisi thi ki shikshakoN ko bhi wahi khana khana padega, wo bhi bachchon se pahle. Aathwin class ke bachche kuch bachchon ki maut ke bare mein baat kar rahe the. Bablu hari dada ke paas gaya aur poochne par pata chala ki teen char din pahle Bihar mein 'mid-day meal' khane se 23 bachchon ki maut ho gayi hai aur kuchh peedhit bachche aspataal mein abhi bhi maut se joojh rahe hain.aag ki tarah ye khabar vidyarthyon ke beech fail gayi aur bas bachchon ne bhi khana khane se mana kar diya.

Bhayi gareeb hain ,magar hain toh insaan hi na. inke parivaar walon ke paas toh inke jeevan ka mol hai. Khane ka lalach dekar shikshit karne ki yojna hai ki is yojna ki aad mein apni jebein thoosne ka?
Aur kitna neeche girega insaan? bachche toh bhagwan ka roop hote hain, unki jaan lekar kya ye gunahgaar khush rah payenge? Aur bhagwan toh jaise lapata hi ho gaye hain. shayad insaan ne zahar dekar unhe bhi maar dala hai, ab woh chirnidra mein leen ho gaye hain aur sansaar ki chabi thama di hai apni hi srishti, is insaan ke hathon. Jante hain sarvapratham woh tijori se anmol  ratan hi churayga, aur kharch karte karte ek aisa din ayega jab woh kangal ho jayega . Phir se bhikshu ban isi bhagwan ke samne gidgidayga . Par tab ? Kya bhagwan todenge apni samadhi?

Khair, is Bablu ke parivar ki tarah kai aise parivar hain jo gareeb hain,ya  gareebi rekha ke niche rahte hain. Ab ya toh ye log school se bachchon ka nam katwa denge, ya phir se nazar ane lagenge ye nanhe munne 14 saal se kam umra ke mazdoor. Budi-ma bhi ab rukha sukha kha kar apni bachi khuchi zindagi guzaar legi.



Sarkar aise khooniyon ka kuchh karegi bhi ki nahin ye ham me se kisi ko nahin pataa  .Ye ghatana bhi ek 'khabar' bankar do char dinoN tak TV par chhayi rahegi aur phir gumnam ho jayegi.

Pahle se hi gareeb, apne bachchon ko khone ke baad ab toh aur bhi gareeb ho gaye hain.

(pic-google)




 आज बूढ़ी-मा अपनी बड़ी सी स्टील की थाली लिए स्कूल के बाहर से ही लौट आई , बिना कुछ खाए ही.लगभग आधे घंटे तक स्कूल के गेट पर इंतज़ार करने के बाद मुँह लटकाए वापस आ गयी. धूप भी बहुत तेज़ थी. रसोईघर में दो चार आलू पड़े थे, सो चावल के साथ उन्हें भी उबाल लिया और नमक - मिर्च के साथ उसी से दोपहर का भोजन किया. फिर अपना काम निबटा कर सोने चली गयी. बच्चे शाम को ही लौटते हैं  सो आराम से नीम की ठंडी छाँव तले सो गयी. शाम को बच्चे लौटे तो कुछ पूछती इससे पहले ही दोनो फिर से बस्ता उठा कर ट्यूशन पढ़ने चले गये. उनकी माँ उन्हें पैसे देकर जाती थी ताकि शाम को भूख लगे तो कुछ खरीद कर खा सकें. रात को परिश्रांत बच्चे लौटते ही खाना माँगने लगे ,और खाते ही सीधे बिस्तर पर.

थोड़ी देर बाद बबलू बिस्तर से उतर कर आया और बूढ़ी-माँ के पास आकर बैठ गया. बूढ़ी-माँ उदास थी की गुस्से में, समझने की कोशिश कर रहा था. चुप्पी को तोड़ते हुए बूढ़ी-माँ ने पूछा "क्यों, क्यों नहीं आया तू आज खाना देने? पता है कितनी देर तक मैं धूप में खड़ी थी ?" बबलू बिना कुछ बोले अपनी माँ के पास गया और बूढ़ी-माँ की थाली में रोटी सब्जी परोसकर उसे मनाने लगा. समझ नहीं पा रहा था कैसे बताए उसे सब कुछ .

दरअसल बात कुछ ऐसी है, बबलू और सुनैना के स्कूल में मुफ़्त में दोपहर का खाना दिया जाता है. या यूँ कहें कि ज़्यादा से ज़्यादा बच्चे जिनके माँ -बाप ग़रीबी के कारण उन्हे स्कूल नहीं भेज पाते  हैं ,उन्हे कम से कम बुनियादी शिक्षा प्राप्त करवाई जा सके इसी उद्देश्य से 'फ्री मिड-डे मील ' की योजना सारे देश में लागू की गयी  .. इस देश में सचमुच कुछ इतने ग़रीब हैं जिनके लिए एक वक़्त का खाना बहुत मायने रखता है.



बबलू और सुनैना भी ऐसे ही ग़रीब बच्चे हैं. सुनैना को जो भी मिलता है खुश रहती है पर बबलू , ग़रीब है तो क्या, खाना वही खेयगा जो उसे पसंद हो.स्कूल में तो उसे एक सब्जी , दाल(जिसे दाल कम ,पानी ज़्यादा बोला जा सकता है) और चावल ही दिया जाता था, जो उसे बेस्वाद लगता था.एक दिन उसने बैंगन में एक कीड़ा देख लिया था ,बस फिर क्या था, ज़िद पे अड़ा रहा की घर से या तो खाना लेकर जायगा या पैसे. उसने ही बूढी-माँ  से कहा था की दोपहर को थाली लेकर आ जाया करे,  वो अपने हिस्से का खाना उसे दे दिया करेगा. अपना खाना वो दुकान से खरीद कर ख़ाता था. आज भूखी बूढ़ी-माँ का गुस्सा होना लाजमी था पर बबलू ने जब कारण बताया तो बूढ़ी-माँ स्तब्ध रह गयी.

आज सुबह स्कूल पहुँचते ही दोनो भाई बहन ने देखा की कुछ लोग गेट के बाहर धरना दिए बैठे हैं. पास जाकर देखा तो उसमे उनके सहपाठियों के माता -पिता भी थे. नारा लगा रहे थे की स्कूल का स्टोर रूम और रसोईघर उन्हे तुरंत दिखाया जाए. दरवान ने बच्चों से कहा की अंदर जाकर प्रार्थना की लाइन में खड़े हो जायें और अभिभावकों को वहीं गेट पर इंतज़ार करने के लिए कहा. बच्चे चुपचाप अपनी अपनी कक्षा की ओर चले गये.



दोपहर को जब घंटी बजी तो दौड़कर सारे बच्चे अपनी अपनी थाली लेकर रसोई के सामने खड़े हो गये पर एक-आध मिनट बाद ही फिर से चिल्लाने की आवाज़ आने लगी. माँग कुछ ऐसी थी कि शिक्षकों को भी वही खाना खाना पड़ेगा, वो भी बच्चों से पहले. आठवीं क्लास के बच्चे कुछ बच्चों की मौत के बारे में बात कर रहे थे. बबलू हरी दादा के पास गया और पूछने पर पता चला की तीन चार दिन  पहले बिहार में 'मिड-दे मील' खाने से 23 बच्चों की मौत हो गयी है और कुछ पीड़ित बच्चे अस्पताल में अभी भी मौत से जूझ रहे हैं.
आग की तरह ये खबर विद्यार्थियों के बीच फैल गयी और बस बच्चों ने भी खाना खाने से मना कर दिया.

भई ग़रीब हैं ,मगर हैं तो इंसान ही ना. इनके परिवार वालों के पास तो इनके जीवन का मोल है. खाने का लालच देकर शिक्षित करने की योजना है की इस योजना की आड़ में अपनी जेबें ठूँसने का? और कितना नीचे गिरेगा इंसान? बच्चे तो भगवान का रूप होते हैं, उनकी जान लेकर क्या ये गुनहगार खुश रह और भगवान तो जैसे लापता ही हो गये हैं. शायद इंसान ने ज़हर देकर उन्हे भी मार डाला है, अब वो चिरनिद्रा में लीन हो गये हैं और संसार की चाबी थमा दी है अपनी ही सृष्टि, इस इंसान के हाथों. जानते हैं सर्वप्रथम वो तिजोरी से अनमोल  रतन ही चुरायगा, और खर्च करते करते एक ऐसा दिन आएगा जब वो कंगाल हो जाएगा . फिर से भिक्षु बन इसी भगवान के सामने गिड़गिड़ायेगा . पर तब ? क्या भगवान तोड़ेंगे अपनी समाधी?

खैर, इस बबलू के परिवार की तरह कई ऐसे परिवार हैं जो ग़रीब हैं,या ग़रीबी रेखा के नीचे रहते हैं. अब या तो ये लोग स्कूल से बच्चों का नाम कटवा देंगे, या फिर से नज़र आने लगेंगे ये नन्हे मुन्ने 14 साल से कम उम्र के मज़दूर. बूढ़ी-माँ भी अब रूखा सूखा खा कर अपनी बची खुची ज़िंदगी गुज़ार लेगी.




सरकार ऐसे खूनियों का कुछ करेगी भी की नहीं हम मे से किसी को नहीं पता . ये घटना भी एक 'खबर' बनकर दो चार दिनों तक टीवी पर छाई रहेगी और फिर गुमनाम हो जाएगी.

पहले से ही ग़रीब, अपने बच्चों को खोने के बाद अब तो और भी ग़रीब हो गये हैं.


(तस्वीरें -साभार गूगल )

Monday, July 15, 2013

MAINA KI KAHANI …THODI KHATTHI THODI MEETHI / मैना की कहानी … थोड़ी खट्टी थोड़ी मीठी

Aaj Maina ki chhutthi hai phir bhi subah subah hi uthna pada . Maa Vipattarini ki pooja jo hai ... usne toh vrat rakha hai par ghar ke anya sdasyon ke liye toh khana banana hi padega na . Rasoi ka kaam nibtakar mandir jayegi... ,mandir ke paas chhote mote dukan hain jo niramish khana bechte hain upwasiyon ke liye ..wahan se kuchh kharid ke kha legi.. yahi sab sochti rahi aur apna kaam sametti rahi .

Maina, jab baat karti hai toh bilkul Maina ki tarah awaz nikalti hai uske gale se .. kali hai par uske kaale ghane kesh aur sundar mukhmandal uske roop ke akarshan ko badhate hain. aankhen bohat sundar hain uski ,bilkul bolti hui.... dublipatli nate kad ki Maina diva-ratri mehnat karti hai ... karna padhta hai use..

Jab doosron ke jhoothe bartan manjte manjte , jhadu-buhar karte hue malkin ko dekhti hai TV ke saamne remote hath mein liye aaram se serial dekhte hue , kya uska man nahin karta ki ik aisi hi zindagi uski bhi ho !! aise jeevanyapan ka sapna toh wo bhi dekhti hai par haan kabhi bhagwan se shikayat nahin karti ... bohat bhale man ki aurat hai .. uske jeevan ka ekmatra uddeshya apne bachhon ko achchi shiksha dena aur chahti hai ki barhavin ke baad wo college ki padhai bhi poori karein. ... bas...

Pratidin mushkilon se ladna asaan nahin hai par wo khushi khushi zindagi ke har chunouti ko sweekar kar leti hai aur aksar jeet jati hai. aisa uske liye isliye sambhav ho pata hai kyonki anya kaamwaliyon ke patiyon jaisa vyavahar uska pati nahi karta .. agar uska pati bhi roz rat ko sharab peekar ghar laut -ta  aur apni pyas mitakar ek zinda lash ki tarah bistar ke kinare pada rahta kahan se laati is jazbe ko?

Par maze ki baat toh ye hai ki Maina khud nasha karti hai.. tambaku chabati hai , shayad kaam karte karte bhookh ko pare rakhne ke liye .... aur kabhi kabhar uski nanad gaanv se ' tadi' lekar ati hai toh talaab ke kinare baith dono sukh dukh baant-te hue uska paan bhi karte hain... is oorja se antarman tript ho jata hai uska ...
Ek pagli hai , pyari bawri si Maina...

Mandir tak pohanchte pohanchte sham ke paanch baj gaye . ek or uske sath uski do betiyaan aur doosri or bhari bheed ..itni bheed ki use sirf kaale kaale sar nazar aa rahe the .. aur paseene ki milijuli gandh  uski saanson ke saath buri tarah ghul mil rahi thi . subah se kuchh khaya nahin tha so ulti aa rahi thi use.. darshan karke matha tekna toh zaroori tha so bhagwan ka naam lekar kood padi us paseene se ufante samundar mein .

Achanak apni peeth par kisi ka hath mahsoos kiya usne .Pooch raha tha " ma Vipattarini ko  pooja chadhane ayee ho? Mere saath aao, yahan is dukaan mein chappalein rakh do, aur phool tatha prasaad khareed lo."
Jaise hi mudhkar usne us vyakti ki or dekha ,uski yaaddasht ek hi jhatke mein barah saal peechhe chali gayi . Ek pal ke liye use laga ki shayad koi bhool kar rahi hai ,magar jaise hi usne dukaanki taraf nazar ghumaii, toh uska sandeh nishchitta mein badal gaya. Khaskar us ladke ko dekhkar jo phoolmala ki tokri saja raha tha . Kuch dino pahle hi ayaa tha uske pati se milne ..aur jis purohit ne use poja chadhane mein madad karne ki baat kahi thi ,wo uske pati ke door ke rishte mein chacha lagte the ...

Ab tak wo bhi use pehchan gaye the aur uski or kuch kahne ke uddeshya se badhne lage to use na jane kya soojhi , boli aaj bohat der ho gayi hai isliye sirf darshan karke dakshina chadake hi chali jayegi. Itna kahkar apni dono betiyon ka haath kaskar pakda aur mandir ke bheetar ghus gayi.
Bichari Maina aaj man lagakar pooja tak nahin kar payi. Uska dil kah raha tha kisi tarah ho sake toh bahar nikal jaye is bheed mein shamil hokar ... Antat: wahi kiya usne. Bahar nikalte hi usne sabse pahle do glass nimbu pani piya phir dukaan se khana khareedkar apni betiyon ke saath milbaant kar khaya aur wapas ghar ki or rawana ho gayi. Bhor hote hi kam pe nikalna hai use..

Train mein baithe baithe Maina ko us din ki yaad a gayii jis din uska vivah hua tha .Isi mandir mein shadi hui thi uski. Us din mandir se nikalte hi uski nazar kuchh anjaan cheharon par padi thi. Ghoor rahe the ya yoon hi use dekh rahe the samajh nahin pa rahi thi wo. Kisi ke hath mein katora, kisi ke hath mein tedhi medhi thali, fate purane maile kapde.... dekhte hi samajh gayi thi ki wo sab bhikhari the . Ek chhote se hotel mein khane ke liye jane lage toh dekha ki wo log bhi peechhe peechhe aa rahe thhe. Houle se  pochhne par uske pati ne use bataya tha ki sab uske hi rishtedar hain. Gaaon mein bechare dana pani ke liye taras jate hain, bohat kashtdayak jeevan vyateet karna padhta hai isiliye yahan shahar mein bheekh maangte hain. Kam se kam do waqt ka khana to mil jata hai.

Maina samajh gayi thi ki bheekh maangna hi unka 'rozgar' hai.... "par bheekh kyon maangte hain? Hath pair toh theek hain, koi bhi kaam kar sakte hain, mehnat karke kyon nahin kamaate? " Uske pati ne use chup kara diya . Us din apne sasural aakar nayi naweli dulhan ghar sansaar samhalne mein vyast ho gayi. Din ,saal, mahine guzarte gaye. Use yahi theek lagta tha ki uske sansaar mein paison ki tangi hone ke bawjood bhi khushiyaan hain, shanti hai. Uska pati ek badi company ke malik ke yahan driver ka kaam karta hai, sharaabi ya juari nahin hai , aur raat raat bhar badnam galiyon mein padha nahin rahta. Uske liye to yahi swargtulya tha.

Raat pati se bina poochhe rah nahi payi . Nimayi chacha ki baat sunte hi bola," kyon, tumhe bataya to tha, kafi arse se wo usi mandir ke paas rahte hain. Jab se gaaon chhoda hai wahin hain, bheekh maangne ka kaam karte hain." Jab maina ne use bataya ki aaj usne chachaji ko purohit ke vesh mein bakayda janeu pahne hue dekha toh uska pati to jaise aasman se gir padhaa.

Kuchh nahi soojh raha tha use, uski biradari mein ya vansh mein door door tak koi bhi rishtedar brahman nahin thaphir ye chacha pandit kaise ban gaye? janeu kaise dharan kar liya?
Turant apne ek bhateeje ko phone kiya aur poochha toh Maina ki baat sach saabit hui. Bhateeje ne badi swabhavikta se kaha, sirf uske chachaji hi nahin ,  kai log hain jo jeevika ke khatir is prakar brahman vesh dharan kar logon ko moorkh bana rahe hain. Aur log bhi sandeh nahi karte kyonki zyadatar logon ko mantra - tantra ka gyan hi nahi hai.

Sham ki is ghatana ke pashchat wo chintamagna si ho gayi thi ,ya fir dushchintagrast. Soch rahi thi ,gaon mein jitna bhi milta hai  usi mein sammanpoorvak nirvah kar sakte hain, kyon ye log is prakar bheekmango ki tarah dar dar ki thokar khate fir rahe hain ! ya phir inhone apna atmasamman bodh hi kho diya hai ! Aur toh aur ,bhagwan ke ghar mein ghus kar unke hi saamne ye paapi , logon ko thag bhi rahe hain.

Nahin katai nahi, in logon kesaath koi bhi rishta nahi rakhegi ye, na to apne bachchon ko rakhne dekhi. Ye jeevan bhagwan ka diya hua hai, jeene ka upay bhi wohi batayenge . Bhagwamn ne do haath, do pair, drishti aur buddhi di hai. Apne sapnon ko zaroor sakaar kar payegi. Yahi sab kuch sochte sochte kab neend ki duniya mein pravesh kar gayi use bhi maloom nahin....
Pyari si Maina ke hothon par tair rahi thi pyari si muskaan..


आज मैना की छुट्टी है  फिर भी सुबह सुबह ही उठना पड़ा … माँ विपत्तारिणी की पूजा जो है … उसने तो व्रत रखा है पर घर के अन्य सदस्यों के लिए तो खाना बनाना पड़ेगा न …. रसोई का काम निबटा के मंदिर जाएगी …मन्दिर के पास  छोटे मोटे दुकान हैं जो निरामिष खाना बेचते हैं उप्वासियों के लियेवहाँ से कुछ खरीद के खा लेगी …. यही सब सोचती रही और अपना काम समेटती रही …


मैना , जब बात करती है तो बिलकुल मैना की तरह सुरीली आवाज़ निकलती है उसके गले से….काली है पर  उसके काले घने केश और सुन्दर मुखमंडल उसके रूप के आकर्षण को बढ़ाते हैं …. ऑंखें बहुत सुंदर हैं उसकी, बिलकुल बोलती हुई …दुबली पतली नाटे कद की मैना दिवा-रात्रि मेहनत करती है …करना  पड़ता है उसे…


जब दूसरों के झूठे बर्तन मांजते मांजते , झाड़ू -बुहार करते हुए मालकिन को देखती है टीवी के सामने रिमोट हाथ में लिए आराम से सीरियल देखते हुए, क्या उसका मन नहीं करता कि एक ऐसी ही ज़िन्दगी  उसकी भी हो!! ऐसे जीवनयापन का सपना तो वो भी देखती है  पर हाँ कभी भगवान से शिकायत नहीं करती … बहुत भले मन की औरत है … उसके जीवन का एकमात्र उद्देश्य अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा देना और चाहती है की  बारहवीं के बाद वो कॉलेज की पढ़ाई  भी पूरी करें … बस .


प्रतिदिन ,मुश्किलों से लड़ना आसान नहीं है पर वो ख़ुशी ख़ुशी ज़िन्दगी के हर चुनौती को स्वीकार कर लेती है और अक्सर जीत जाती है … ऐसा उसके लिए इसीलिए संभव हो पाता है क्योंकि अन्य कामवालियों के पतियों जैसा व्यवहार उसका पति नहीं करता …. अगर उसका पति भी रोज़ रात को शराब पीकर घर लौटता और अपनी प्यास मिटाकर एक जिंदा लाश की तरह बिस्तर के किनारे पड़ा रहता तो कहाँ से लाती इस ज़ज्बे को ?


पर मज़े की बात तो ये है, की मैना खुद नशा करती है … तम्बाकू चबाती है ,शायद काम  करते करते भूख को परे रखने के लिए …और कभी कभार उसकी ननद गाँव से 'ताड़ी' लेकर आती है तो तालाब के किनारे बैठ दोनों सुख दुःख बांटते हुए उसका पान भी करते हैं …  इस ऊर्जा से अंतर्मन तृप्त हो जाता है उसका …
एक पगली है , प्यारी बावरी सी मैना ..


मंदिर तक पहुँचते पहुँचते शाम के पांच बज गए . एक ओर उसके साथ उसकी दो बेटियाँ और दूसरी ओर भरी भीड़… इतनी भीड़ की उसे सिर्फ काले काले सर नज़र आ रहे थे ,और पसीने की मिलीजुली गंध उसकी सांसों के साथ बुरी तरह घुल-मिल रही थी . सुबह से कुछ खाया नहीं था सो उलटी आ रही थी उसे .
दर्शन करके माथा टेकना तो ज़रूरी था सो भगवान का नाम लेकर कूद पड़ी उस पसीने से उफनते समुन्दर में।


अचानक अपनी पीठ पर किसी का हाथ महसूस किया उसने . पूछ रहा था " माँ विपत्तारिणी को पूजा चढ़ाने आई हो ? मेरे साथ आओ ,यहाँ इस दूकान में चप्पलें रख दो और फूल तथा प्रसाद खरीद लो ." जैसे ही मुड़कर उसने उस व्यक्ति की ओर देखा, उसकी याददाश्त एक ही झटके में बारह साल पीछे चली गयी … एक क्षण के लिए उसे लगा शायद कोई भूल कर रही ,मगर जैसे ही उसने दूकान की तरफ नज़र घुमाई तो उसका संदेह निश्चितता में बदल गया . खासकर उस लड़के को देखकर जो फूलमाला की टोकरी सजा रहा था . कुछदिनों पहले ही आया था उसके पति से मिलने . और  जिस पुरोहित ने उसे पूजा चढाने में मदद करने की बात कही थी वो उसके पति के दूर के रिश्ते में चाचा लगते थे …


अब तक वो भी उसे पहचान गए थे और उसकी ओर कुछ कहने के उद्देश्य से बढ़ने लगे तो उसे न जाने क्या सूझी बोली आज बहुत देर हो गयी है इसलिए सिर्फ दर्शन करके दक्षिणा चढ़ाके ही चली जायगी … इतना कहकर दोनों बेटियों का हाथ कसकर पकड़ा और मंदिर के भीतर घुस गयी .
बिचारी मैना आज मन लगाकर पूजा तक नहीं कर पाई . उसका दिल कह रहा था किसी तरह  हो सके तो बाहर निकल जाय  इस भीड़ में शामिल होकर … अंततः वही किया उसने . बाहर निकलते ही सबसे पहले उसने दो गिलास निम्बू पानी पिया फिर दुकान से खाना खरीदकर अपनी बेटियों के साथ मिलबांट कर खाया और वापस घर की ओर रवाना हो गयी . भोर होते ही काम पे निकलना है उसे .


ट्रेन में बैठे बैठे मैना को उस दिन की याद आ गयी जिस दिन उसका विवाह हुआ था . इसी मंदिर में शादी हुई थी उसकी . उस दिन मंदिर से निकलते ही उसकी नज़र कुछ अनजान से चेहरों पर पड़ी थी . घूर रहे थे या यूं ही उसे देख रहे थे समझ नहीं पा रही थी वो. किसी के हाथ में कटोरी ,किसी के हाथ में टेढ़ी मेढ़ी थाली ,फटे पुराने मैले कपड़े … देखते ही समझ गयी थी की वो सब भिखारी थे . एक छोटे से होटल में खाने के लिए जाने लगे तो देखा की वो लोग भी पीछे पीछे आ रहे थे . हौले से पूछने पर  उसके पति ने उसे बताया था कि सब उसके ही रिश्तेदार हैं . गाँव में बेचारे दाना पानी के लिए तरस जाते हैं , बहुत कष्टदायक जीवन व्यतीत करना पड़ता है इसीलिए यहाँ शहर में भीख माँगते हैं . कम से कम दो वक़्त का खाना तो मिल जाता है.


मैना समझ गयी थी की भीख मांगना ही उनका 'रोज़गार' है … "पर भीख क्यों मांगते हैं ?हाथ पैर तो ठीक हैं , कोई भी काम कर सकते हैं , मेहनत करके क्यों नहीं कमाते ?" . उसके पति ने उसे चुप करा दिया . उस दिन अपने ससुराल आकर नयी नवेली  दुल्हन घर संसार सँभालने में व्यस्त हो गयी .दिन ,साल, महीने गुज़रते गये. उसे यही ठीक लगता था की उसके संसार में पैसों की तंगी होने के बावजूद भी ,खुशियाँ हैं,शांति है. उसका पति एक बड़ी कम्पनी के मालिक के यहाँ ड्राईवर का काम करता है , शराबी या जुआरी नहीं है, और रात रात भर बदनाम गलियों में पड़ा नहीं रहता . उसके लिए तो यही स्वर्गतुल्य था .


रात ,पति से बिना पूछे रह नयी पाई . निमाई चाचा की बात सुनते ही बोला "क्यों ,तुम्हे बताया तो था ,काफी अरसे से वो उसी मंदिर के पास रहते हैं ,जब से गाँव छोड़ा है वहीँ हैं ,भीख मांगने का काम करते हैं . "
जब मैना ने उसे बताया की उसने आज चाचाजी को पुरोहित के वेश में बाकायदा जनेउ पहने हुए देखा तो उसका पति तो जैसे आसमान से गिर पड़ा .


कुछ नहीं सूझ रहा था उसे, उसकी बिरादरी में या वंश में दूर दूर तक कोई भी रिश्तेदार ब्राह्मण नहीं था फिर ये चाचा पंडित कैसे बन गए,जनेउ कैसे धारण कर लिया?
तुरंत अपने एक भतीजे को फ़ोन किया और पूछा तो मैना की बात सच साबित हुई . भतीजे ने बड़ी स्वाभाविकता से कहा ,सिर्फ उसके चाचाजी ही नहीं, कई लोग हैं जो जीविका के खातिर इस प्रकार ब्राह्मण वेश धारण कर लोगों को मूर्ख बना रहे हैं . और लोग भी संदेह नहीं करते हैं क्योंकि ज़्यादातर लोगों को मंत्र - तंत्र का ज्ञान ही नहीं है.


शाम की इस घटना के पश्चात वो चिंतामग्न सी हो गयी थी, या फिर दुश्चिंता ग्रस्त  . सोच रही थी ,गाँव में जितना भी मिलता है उसी में सम्मानपूर्वक निर्वाह कर सकते हैं , क्यों ये लोग इस प्रकार भीख मंगो की तरह दर दर की ठोकरें खाते फिर रहे हैं! या फिर इन्होने अपना आत्मसम्मान बोध ही खो दिया है  ! और तो और , भगवान के घर  में घुस कर उनके ही सामने ये पापी , लोगों को ठग भी रहे हैं .

नहीं , कतई नहीं … इन लोगों के साथ कोई भी रिश्ता नहीं रखेगी ये, न तो अपने बच्चों को रखने देगी . ये जीवन भगवान का दिया हुआ है ,जीने का उपाय भी वो ही बताएँगे . भगवान ने दो हाथ , दो पैर ,दृष्टि और बुद्धि दी है . अपने सपनों को ज़रूर साकार कर पायेगी . यही सब कुछ सोचते सोचते कब नींद की दुनिया में प्रवेश कर गयी उसे भी मालूम नहीं ….
प्यारी सी मैना के होठों पर तैर रही थी प्यारी सी मुस्कान .

Saturday, June 29, 2013

MAUN SISKIYAAN / मौन सिसकियाँ

Saptah ke 6 din bohat kathin hote ja rahe the uske liye...roz subah se lekar dopahar tak bachche ka school se lautne ka intezar aur itni lambi prateeksha ka khalipan use kaatne ko daudta tha..par uski duniya badal jati thi jab dopahar ka khana khate khate school ki chatpati batein woh apni maa ke saath sanjha karta tha ...koshish karti ki jitna ho sake ek mitra ki tarah uske saath uske jagat ka ek hissa ban sake....

Us din batoN batoN mein usne bhi apni saheli ki beti ka zikra kiya  .. uski saheli jo ki usi ki tarah ek grihani thi bohat aahat hui thi apni beti ki batoN se .... uski beti ko achcha nahin lagta tha ki uski maa ek sadharan snatak hai ... beti ke ek prashna ne bohat vichalit kar diya tha uski saheli ko, jab bachchi ne school se laute hi poochha "maa, kya tumhari bachpan se yahi abhilaasha thi ki tum badi hokar ek 'housewife' banogi?"

Ghatana ka vivaran chupchap sun raha beta achanak chillakar kahne laga " tum mujhe kyon suna rahi ho ? maine kabhi tum se aisa kaha kya? ayah ke paas rakh deti mujhe, kar leti apni akankshayein poori...maine toh mana nahiN kiya tha .. main apni zimmedari khud uthane layak ho gaya hoon..jahaN chahe, jitni der tak chahe naukri kar lo tum..." .


Uske gale mein jaise kuchh atak gaya tha . na nigalte ban raha tha ,na ugalte...jise usne apne jeevan mein hamesha prathamikta di aaj woh aise shabd kitni asaani se kah kar apne kamre mein chala gaya...woh stabdh khadi uw darwaaze ki ore taakti rah gayi...un chand lamhoN mein uski zindagi ....uske ankho ke samne aa khadi hui..aur palatne lagi panne beete hue dino ke ...le gayi use bhootkaal mein jahan rangbirange sapno se ghira rahta tha uska kamra, uski kitabein, uski saansein...

Use laga ek baar apni santaan se poochhe kya isi din ke liye usne apni samast ichchaon ko dhakel diya tha agnikund mein? phir agle hi pal usne mahsoos kiya ,naa," isme na galti meri hai na uski, usne kab kaha tha ki mere liye itna bada balidaan do, tyag karo. aaj apni nakaami ka bojh uske sar daloongi toh uska prativaadi man chup thode hi baithega... umra bhi toh aisi hi hai ...khud ko samajh nahin pa raha hai shayad "..madad bhi toh nahin karne deta . kuch bolo toh ek hi jawab, "sab ataa hai, 'help' nahin chahiye" .. shayad ye rawayiya bhi viraasat mein mila hai usko ... phir bajai garv ke use gussa kyon aa raha hai  bete ke upar !!

Jeevan kadachit aisi hi vidambanaon  ( vidambana-irony) ka guchcha hai..  suljhate suljhate insaan boodha ho jata hai ... phir budhape mein kisi akeli nirjeev khidki ke saamne baithkar sochta rahta hai apni galatiyon ke baare mein ...ret ki tarah phisalte hue samay ko kabhibaandh nahin saka jo, jeevan ke antim charan mein use ehsaas hota hai apni galatiyon ka aur uska kamzor toot ta hua badan ab chahta hai ki samay ke pahiye ko bhootkaal mein dhakel de ... badal dena chahta hai un paristhitiyon ko jinhone use woh insaan banaya hai jise woh aaine mein roz dekhta hai , ek aisa vyakti jo kunthagrast hai ... isi kuntha ke bojh tale insaan dab jata hai aur uski siskiyan bhi ...

Kaun kahta hai umra ho jane par koi bachchon ki tarah nahin rota? rota hai , bas uski maun siskiyaan sunayi nahi deti aur sookhe hue ashk( tears) nazar nahi ate .... asal mein dikhane se darta hai . apne ho ya paraye, doosre ka dukh koi nahin dekhna chahta ..is tarah bhagta hai jaise ki dukh ' koi sankramak rog ho ...




Aaj uska man bhi dhoondh raha tha koi kona jahan bachchon ki tarah rokar apna man halka kar leti...na jane budhape mein use aisi khidki naseeb hogi bhi ki nahin.. .. par aaj is nawal-kishore (adolescent) ki baton se use ehsaas ho gaya ,har bachche mein ek swabhimaani vayask (adult) aur bade mein nasamajh bachcha chhupa hota hai ...is baat ki sachchai ko parakhne ki shayad awashyakta nahin hai ...samay-asamay paristhitiyan hamein aise satya ke sammukheen kar hi deti hai .......achanak mobile ka karkash swar  (cacophonous ringtone) use vaastav (reality) mein lauta laya ... phone utha kar dekha toh uski maa ka number tha .... man shaant hua ... sooraj ki taap se asthir pipaasit (thirsty) sharir ko jaise jharne ka swachh sheetal jal mil gaya ho....


सप्ताह के 6 दिन बहुत ही कठिन होते जा रहे थे उसके लिए. रोज़ सुबह से लेकर दोपहर तक बच्चे का स्कूल से लौटने का इंतज़ार और इतनी लंबी प्रतीक्षा का ख़ालीपन उसे काटने को दौड़ता था. पर उसकी दुनिया बदल जाती थी जब दोपहर का खाना खाते खाते स्कूल की चटपटी बातें वो अपनी माँ के साथ सांझा करता था. कोशिश करती की जितना हो सके एक मित्र की तरह उसके साथ उसके जगत  का एक हिस्सा बन सके   ...

उस दिन बातों बातों में उसने भी अपनी सहेली की  बेटी का ज़िक्र किया..उसकी सहेली ,जो की उसी की तरह एक गृहणी थी बहुत आहत हुई थी अपनी बेटी की बातों से...उसकी बेटी को अच्छा नहीं लगता था कि उसकी माँ सारा दिन घर में ही बैठी रहती है.शायद उसे लज्जा आती थी अपने दोस्तों को यह बताते हुए की उसकी माँ एक साधारण स्नातक  है.  बेटी के एक प्रश्न ने बहुत विचलित कर दिया था उसकी सहली को, जब बच्ची ने स्कूल से लौटते ही पूछा " माँ क्या तुम्हारी  बचपन से यही अभिलाषा थी कि तुम बड़ी होकर एक 'हाउसवाइफ' बनोगी?"

घटना का विवरण चुपचाप सुन रहा बेटा अचानक   चिल्लाकर कहने लगा  " तुम मुझे क्यों सुना रही हो? मैने कभी तुम से ऐसा कहा क्या? आया  के पास रख देती मुझे, कर लेती अपनी आकांक्षाएँ पूरी. मैने तो मना  नहीं किया था.मैं अपनी ज़िम्मेदारी खुद उठाने लायक हो गया हूँ, जहाँ चाहे,जितनी देर तक चाहे नौकरी कर लो तुम ".


उसके गले में जैसे कुछ अटक गया था..न निगलते बन रहा था न उगलते .. जिसे उसने अपने जीवन में हमेशा प्राथमिकता दी आज वो ऐसे शब्द कितनी आसानी  कह के अपने कमरे में चला गया.… वो स्तब्थ खड़ी उस दरवाज़े की ओर ताकती  रह गयी... उन चंद लम्हों में उसकी ज़िंदगी.. उसके आँखों के सामने आ खड़ी हुई... और पलटने लगी पन्ने बीते हुए दिनों के….  ले गयी उसे भूतकाल में जहाँ रंगबिरंगे सपनों से घिरा रहता था उसका कमरा, उसकी किताबें ,उसकी साँसे  ...

उसे लगा एक बार अपनी संतान से पूछे क्या इसी दिन के लिए उसने अपनी समस्त इच्छाओं को धकेल दिया था अग्निकुंड में ? फिर अगले ही पल उसने महसूस किया ," ना, इसमे न ग़लती मेरी है न उसकी. उसने कब कहा था की मेरे लिए इतना बड़ा बलिदान दो, त्याग करो. आज अपनी नाकामी का बोझ उसके सर डालूंगी तो उसका प्रतिवादी मन चुप थोड़े ही ना बैठेगा "..उम्र भी तो कुछ ऐसी ही है. खुद को समझ नहीं पा रहा है शायद .मदद भी तो नहीं करने देता. कुछ बोलो तो एक ही जवाब; "सब आता है, 'हेल्प' नहीं चाहिए". शायद ये रवैया भी विरासत में ही मिला है उसको. फिर बजाए गर्व के उसे गुस्सा क्यों आ रहा है बेटे के ऊपर  !!

जीवन कदाचित् ऐसी ही विडंबनाओं का गुच्छा है.सुलझाते सुलझाते इंसान बूढ़ा हो जाता है, फिर बुढ़ापे में किसी अकेली निर्जीव खिड़की के सामने बैठकर सोचता रहता है अपनी ग़लतियों के बारे में. रेत की तरह फिसलते हुए समय को कभी बाँध नही सका जो , जीवन के अंतिम चरण में उसे एहसास होता है अपनी ग़लतियों का और उसका कमज़ोर टूटता हुआ बदन अब चाहता है की समय के पहिए को भूतकाल में धकेल दे. बदल देना चाहता है उन परिस्थितियों को जिन्होंने उसे वो इंसान बनाया है जिसे वो आईने में रोज़ देखता है, एक ऐसा व्यक्ति जो कुंठाग्रस्त है.  इसी कुंठा के बोझ तले इंसान दब जाता है और उसकी सिसकियाँ भी.

कौन कहता है उम्र हो जाने पर कोई बच्चों की तरह नहीं रोता? रोता है, बस उसकी मौन सिसकियाँ सुनाई नहीं देती और सूखे हुए अश्क नज़र नहीं आते... असल में दिखाने से डरता है. अपने हो या पराए ,दूसरे का दुख कोई नहीं देखना चाहता. इस तरह भागता है जैसे की 'दुख' कोई  संक्रामक रोग हो...




आज उसका मन भी ढूँढ रहा था कोई कोना जहाँ बच्चों की तरह रोकर अपना मन हल्का कर लेती.... न जाने बुढ़ापे में उसे ऐसी खिड़की नसीब होगी भी की नहीं. पर आज इस नवल-किशोर  की बातों से उसे एहसास हो गया, हर बच्चे में एक स्वाभिमानी वयस्क और बड़े में नासमझ बच्चा छुपा होता है ....इस बात की सच्चाई को परखने की शायद आवश्यकता नहीं है...समय-असमय परिस्थितियाँ हमें ऐसे सत्य के सम्मुखीन कर ही देती है........... अचानक मोबाईल का कर्कश स्वर उसे वास्तव में लौटा लाया... फोन उठा कर देखा तो उसकी माँ का नंबर था... मन शांत हुआ....सूरज की ताप से अस्थिर पिपासित शरीर को जैसे झरने का स्वच्छ शीतल जल मिल गया हो..........



Sunday, June 23, 2013

NaMo ji ye bhedbhaav kyon? नामो जी ये भेदभाव क्यों ?


Jahan tamaam fauji aur vibhinna border force ke log tatha raahat karmi teen- char dinoN mein kewal 2000 logon ko hi suraksha kshetra tak pahuncha paye hain wahan hamare Modi sahab davaa kar rahe hain ki unhone do dinoN mein 15000 Gujratiyon ko raahat dilane mein madad ki hai.....
Ab tak sab theek tha par hairat ki baat ye ki aapne kaise itne saare peedhit mein se Gujratiyon ko pehchana aur usse bhi zyada khatakne waali baat ye ki jo vyakti is desh ka pradhanmantri banne ki ichcha rakhta hai woh sirf gujratiyon ke bare mein kyon soch raha hai !!!





Insaan madad karte waqt bhi apna paraya sochne lage toh aise insaan ki insaaniyat pe sawaal to uthenge hi bhai....par mera salaam un sabhi logon ko jinhone is vipda ki paristhiti mein bhookhe pyason ko muft mein khana khilaya aur peedhit logon ko jeevandaan diya.



Shayad kuch log kahenge ki ye toh unka kaam hai ...naukri hai, duty hai ... par kitne log apna kaam man laga  ke karte hain? is desh ke neta janata ka paisa kha kha ke kuch karte hain kya? deshseva ke naam par loot rahe hain.....khiladiyon ka kaam hai imaandari s khelna, ab ye bhi chori karne lage hain...
mushkil ghari mein nihswarth bhaav se madad karne wala ishwar tulya hota hai ...aur is waqt ye sainik aur rahat karmi hamare liye bhagwan se kuch kam nahin....





जहाँ तमाम फ़ौजी और विभिन्न बॉर्डर फोर्स के लोग तथा राहत कर्मी  तीन -चार दिनों में केवल २००० लोगों को ही सुरक्षा क्षेत्र तक पहुँचा पाए हैं वहाँ हमारे मोदी साहाब दावा कर रहे हैं की उन्होने दो दिनों में  १५००० गुजरातियों को राहत दिलाने में मदद की है...
अब तक सब ठीक था पर हैरत की बात ये है की आपने कैसे इतने सारे पीड़ित में से गुजरातियों को पहचाना और उससे भी ज़्यादा खटकने वाली बात ये कि जो व्यक्ति इस देश का प्रधानमंत्री बनने की इच्छा रखता है वो सिर्फ़ गुजरातियों के बारे में क्यों सोच रहा है!!!

इंसान मदद करते वक़्त भी अपना पराया सोचने लगे तो ऐसे इंसान की इंसानियत पे सवाल तो उठेंगे ही भाई... पर मेरा सलाम उन सभी लोगों को जिन्होने इस विपदा की परिस्थिति में भूखे प्यासों को मुफ़्त में खाना खिलाया और  पीड़ित लोगों को जीवनदान दिया.





शायद कुछ लोग कहेंगे की ये तो उनका काम है..नौकरी है,ड्यूटी है.... पर कितने लोग अपना काम मन लगा के करते हैं? इस देश के नेता जनता का पैसा खा - खा के कुछ करते हैं क्या?  देशसेवा के नाम पर लूट रहे हैं... खिलाड़ियों का काम है ईमानदारी से खेलना , अब ये भी चोरी करने लगे हैं..
मुश्किल घड़ी में नि:स्वार्थ भाव से मदद करने वाला ईश्वर तुल्य होता है... और इस वक़्त ये सैनिक और राहत कर्मी हमारे लिए  भगवान से कुछ कम नहीं...







                                                   PICTURE COURTESY GOOGLE






Saturday, June 22, 2013

आम जनता की लाचारी.... / AAM JANATA KI LACHARI .....

हर सुबह कितने प्यार से इंतज़ार करते हैं तुम्हारा
पर तुम्हारे हर सफ़े पर दहशत लिखी होती है.........

Har subah kitne pyar se intzar karte hain tumhara
par tumhare har safhe par dahshat likhi hoti hai ......
( safha- page, dahshat- scare,horro,terror )

भारत को कभी 'सोने की चिड़िया' कहा जाता था. बचपन में ऐसा सुनते थे तो गर्व से मन ओतप्रोत हो जाता था.सब कुछ , सारे पाठ कितने सच्चे लगते थे. आज बच्चे जब इतिहास का कोई पाठ पढ़ते हैं तो अविश्वास से उनका सर नकारात्मक भंगिमा में हिलने लगता है...जैसे सब मनगढ़ंत हो. सही भी है... देश की मौजूदा परिस्थिति ही कुछ ऐसी है. हिंसक और जघन्य घटनाओं से कोई भी कोना इस देश का अछूता नहीं है. प्रकृति भी धिक्कार रही है इंसान के कारनामों को. ऐसा क्रोध की स्वयं शिवशम्भु भी इस धरातल में नहीं रहना चाहते हैं. लाचार है आम इंसान, बहुत लाचार और बेबस. अपने घर का चूल्हा कैसे जलाए रखें इसकी चिंता करे या देश की!! अद्भुत विडंबना है. कारण एक ही है, जिन लोगों के हाथों जनता ने डोर पकड़ाई है वो आज आपस में ही मरनेमारने को  उतारू हैं. अब तो बच्चों को ये कहते हुए भी डर लगता है की अख़बार पढ़ो...  डर इस बात का कि हर दूसरे पन्ने पर दहशत लिखी होती है... आत्महत्या,बलात्कार,चोरी -डकैती , खून-ख़राबा... और तो और अब तो खेल का जगत भी स्वच्छ नही रहा...भिखारियों की तरह  'अंडरवर्ल्ड' से पैसे माँगते हैं निर्लज्ज. खेलते कम हैं, विज्ञापनों में ज़्यादा दिखते हैं......क्या सीखेंगे अख़बार पढ़के? उल्टा ढेरों प्रश्ना उपजेँगे उनके ज़हन में. जिन बच्चों में आत्मविश्वास की कमी है वो तो शायद सहम के सिकुड़ ही जाएँगे.

दिसंबर में हुई उस लज्जाजनक हिंस्रक बलात्कार की घटना के बाद जिस तरह समस्त देशवासियों ने अपने सामर्थ्य अनुसार आवाज़ उठाई थी ,बहुत आशान्वित थे हम सब की इस बार दुष्कर्मियों को सज़ा मिलके ही रहेगी........जनता ने फाँसी की माँग की पर आज भी कुछ नहीं हुआ उन गुण्डों का. एक शायद जेल में ही मर गया .इन लोगों को जल्द से जल्द सज़ा ना देने का कारण तो समझ नहीं आता पर इसका परिणाम है बलात्कार पे बलात्कार. हाल ही में कोलकाता में ऐसी ही निशंसता की शिकार हो गयी एक बच्ची... यहाँ तो हालात और बुरे हैं. प्रतिवादी को ही दोषी करार दिया जा रहा है. कल 'वॉक' या 'प्रोटेस्ट मार्च'  में काई लोग शामिल हुए थे , जो नहीं हुए वो भी मानसिक रूप से मौजूद थे. अब भी सरकार बहरी होने का स्वांग रचे तो क्या किया जा सकता है. सरकार तथा बहुसंख्यक समाज सेवी संगठों ने एक सुझाव दिया है, बच्चों को आत्मरक्षा के तरकीब विद्यालयों में सिखाये जाने चाहिए. अब कराटे कहिए या मुक्केबाज़ी, सीखने के लिए पैसे कितने लोगों के पास है? स्कूल क्या मुफ़्त में सिखाएँगे? मिड्डे मील तक के पैसे चुराकर बच्चों को जो ठीक से खाना नहीं परोसते वो आत्मरक्षा सिखाएँगे,वो भी मुफ़्त में? और जो महिलाएँ तीस-चालीस की हैं उनका क्या? बलात्कारी तो आजकल उम्र तक नहीं देखते....... इससे बेहतर क्या ये नहीं होगा की हम ऐसे दुष्कर्मियों को मार ही डालें ?

आज हम इंसानो के पास कुछ वृक्ष, थोड़ी हरियाली और थोड़ी सी ही शुद्ध साँसे बची हैं...ये भी ख़त्म हो गये तो इंसान भी मिट जाएगा.... अपना आज जी कर भविष्य को अंधेरे में धकेल कर चले जाना कहाँ की समझदारी है? प्रकृति की सुंदरता से वंचित रहने का नतीजा है छोटी सी उम्र में ही मन में कड़वाहट का घुल जाना,....आज फिल्मी गानों में इतने निम्न स्तर के शब्द चयन का कारण भी यही है... इस प्रजन्म से अपेक्षा भी नहीं करनी चाहिए.... अश्लीलता और सभ्यता में अंतर तक करना नहीं जानते कई बच्चे...या शायद हम इनका सही मार्गदर्शन करने में असमर्थ हो गए …
एक समस्या के बारे में लिखते ही दूसरी समस्या कलम से कागज़ तक जाने के लिए बेताब हो जाती है... देश गहन परिस्थिति में उलझ गया है. उबर आया तो ठीक वरना राम ही जाने....

Bharat ko kabhi 'sone ki chiriya' kaha jata tha. Bachpan mein aisa sunte the to garv se man otprot ho jata tha.Sab kuchh , sare path kitne sachche lagte the.Aaj bachche jab itihaas ka koi paath padhte hain toh  avishwas se unka sar nakaratmak bhangima mein hilne lagta hai...jaise sab mangadhant ho. Sahi bhi hai... desh ki moujuda paristithi hi kuch aisi hai. Hinsak aur jaghanya ghatnaon se koi bhi kona is desh ka achhuta nahin hai. Prakriit bhi dhikkar rahi hai insaan ke karnamon ko.Aisa krodh ki swayam shivshambhu bhi is dharatal mein nahin rahna chahte hain. Lachaar hai aam insaan,bohat lachaar aur bebas. Apne ghar ka chulha kaise jalaye rakhein iski chinta kare ya desh ki!! adbhut vidambana hai. Karan ek hi hai, jin logon ke hathon janata ne dor pakdai hai woh aaj aapas mein marnemaarne ko utaru hain.Ab to bachhon ko ye kahte hue bhi darr lagta hai ki akhbaar padho... darr is baat ka ki har doosre panne par dahshat likhi hoti hai... atmahatya,balatkar,chori -dakaiti , khoon-kharaba... aur to aur ab toh khel ka jagat bhi swachh nahi raha...bhikariyon ki tarah  'underworld' se paise maangte hain nirlajj. khelte kam hain, vigyapanon mein zyada dikhte hain......kya seekhenge akhbaar padhke? Ulta dheron prashna upjenge unke zahan mein. Jin bachchon mein atmavishwas ki kami hai woh to shayd saham ke sikud hi jayenge.

December mein hui us lajjajanak hinsrak balatkar ki ghatana ke baad jis tarah samast deshwasiyon ne apne samarthya anusaar awaz uthai thi ,bohat ashanwit the ham sab ki is baar dushkarmiyon ko sazaa milke hi rahegi........janata ne faansi ki maang ki par aaj bhi kuchh nahin hua un gundoN ka.Ek shayad jail mein hi mar gaya.In logon ko jald se jald saza na dene ka karan toh samajh nahin ataa par iska parinam hai balatkar pe balatkar. haal hi mein Kolkata mein aisi hi nishansta ki shikar ho gayi ek bachchi... yahan to halaat aur bure hain. prativaadi ko hi doshi karar diya ja raha hai. Kal 'Walk' ya 'Protest March'  mein kayi log shamil hue the , jo nahin hue woh bhi mansik roop se moujood the. Ab bhi sarkar bahri hone ka swang rache toh kya kiya ja sakta hai. Sarkar tatha bahusankhyak samajsevi sangathon ne ek sujhav diya hai, bachchon ko atmarakhsha ke tarkeeb vidyalayon mein seekhaye jane chahiye. Ab karate kahiye ya mukkebazi, seekhne ke liye paise kitne logon ke paas hai? School kya muft mein sikhayenge? Midday meal tak ke paise churakar bachchon ko jo theek se khana nahin paroste woh atmaraksha sikhayenge,woh bhi muft mein? Aur jo mahilayen tees-chalees ki hain unka kya? balatkari to aajkal umra tak nahin dekhte....... isse behatar kya ye nahin hoga ki ham aise dushkarmiyon ko maar hi dalein ?

Aaj ham insaano ke paas kuchh vrikhsh, thodi hariyali aur thodi si hi shuddh saanse bachi hain...ye bhi khatm ho gaye toh insaan bhi mit jayega.... apna aaj jee kar bhavishya ko andhere mein dhakel kar chale jana kahan ki samajhdari hai? Prakriti ki sundarta se vanchit rahne ka nateeja hai chhoti si umra mein hi man mein kadhwahat ka ghul jana,....Aaj filmi gaanon mein itne nimn star ke shabd chayan ka karan bhi yahi hai... is prajanm se apeksha bhi nahin karni chahiye.... ashleelta aur sabhayata mein antar tak karna nahinjante kai bachche...ya shayad ham inka sahi margdarshan karne mein asamarth ho gaye
Ek samasya ke bare mein likhte hi doosri samasya kalam se kagaj tak jane ke liye betaab ho jati hai... desh gahan paristhiti mein ulajh gaya hai.Ubar aya to theek varna Ram hi jane....

Wednesday, June 19, 2013

PARIKSHA / परीक्षा

PIC-GOOGLE

कोयल की कूक आज भी पुरानी  यादों को ताज़ा कर देती है।।याद दिला देती है दसवीं की
, जिसे हम बोर्ड  एक्ज़ाम  कहते थे .... एक ओर कोयल की सुरीली तान ,आम के पेड़ पर खिली खिली सी मंजूरी और दूसरी ओर टेबल पर रखी भिन्न- भिन्न विषयों की किताबें और नोट्स ....पढ़ने  बैठो तो कोई न कोई हॉर्लिक्स और पार्ले - जी बिस्कुट भी थमा जाता .........
( अब हॉर्लिक्स का स्थान ले लिया है कॉफी  ने और परीक्षा तो प्रतिदिन देते हैं ..... फिर चाहे कोयल की कूक हो या कौए की कर्कश पुकार ) ...........

MATRITWA / मातृत्व


PIC-GOOGLE
पिछले महीने जावेद अख्तर जी  ने संसद के एक सत्र के दौरान एक मुद्दा उठाया था मातृत्व के सन्दर्भ में ...उनका एक प्रश्न सचमुच दिल को झकझोर गया ... उन्होंने जो कहा वो कुछ इस प्रकार था ..." कहते हैं माँ के पैरों तले स्वर्ग है ,माँ भगवान का रूप है, तो क्या उस औरत को वो सम्मान या प्यार नहीं मिलना चाहिए जो माँ नहीं बन सकी ? "
निः संदेह विचार करने योग्य .......
विडंबनात्मक बात यह है कि एक ओर  हमारे देश में जहाँ देवियों की पूजा शक्ति या माँ के रूप में की जाती है वहीँ दूसरी ओर कुछ पलों के अंतराल में एक बलात्कार या भ्रूण हत्या का कांड टीवी के परदे पर दिखाई देता है .

जावेद जी ठीक ही तो कहते हैं ...ममता हर स्त्री के भीतर व्याप्त है या यूं कहें वो जन्म लेती है इस गुण के साथ…इसके लिए उसका माँ बनना ज़रूरी नहीं ...सिर्फ ममता ही क्यों, दूसरों के सुख दुःख बांटना ,और परित्याग की भावना ये ऐसे गुण हैं जिनसे उसका स्वाभाव स्वाभाविक या प्राकृतिक रूप से  सुशोभित है ...नहीं तो किसी गोद लिए गए बच्चे पर अपना सर्वस्व न्योछावर करना कैसे संभव होता है एक स्त्री के लिए?
आज अखबार में भी पढ़ा , कुछ ऐसी भी महिलाएं हैं जो निजी कारण  हेतु अविवाहित होते हुए भी मातृत्व का सुख पाने के लिए बच्चा adopt कर रहीं है ...काफी परेशानियों का सामना करना पढता है ऐसे cases में ,पर बिना हार  माने,विचलित हुए बिना अकेले ही बच्चा गोद भी ले रहीं हैं और उनका अच्छे से पालन-पोषण भी कर रहीं है .....
कोई ज़रुरत नहीं है औरत को या 'माँ ' को भगवान् का दर्ज़ा देने की ....इंसान है ,इंसान रहने दो… मान-सम्मान और प्यार ही काफी है ... इस प्रकार ये समाज ,ये संसार निश्चित रूप से  एक मनोरम स्थान बन  जायेगा ........

Monday, June 10, 2013

रिश्ता

रिश्तों की अहम्मियत समझना और उन्हें ईमानदारी से निभाना  आसान नहीं है किसी के लिए भी ...प्यार और विश्वास दोनों बहुत ज़रूरी है ...कभी कभी तो इन दोनों से भी बात नहीं बनती और कारण ढूँढ़ते ढूँढ़ते रिश्ता ही ख़त्म हो जाता है ...और फिर अकेला इंसान हताश बैठा भाग्य को कोसता रहता है. ...ऐसे परिस्थिति को सँभालने के लिए गुरुजनों की विचारक्षमता आवश्यक है बशर्ते वो अपने अहम् को बीच में न लायें और समस्या में उलझे लोग रिश्ते को बचाने के लिए एक नासमझ बच्चे की तरह बड़ों का कहा समझने की कोशिश करें और उस पर अमल करें .........और रही समर्पण की बात ...तो उसके लिए बहुत बड़ा दिल चाहिए ...दिल बड़ा हो और क्षमा करने की मानसिकता हो तो टूटा हुआ रिश्ता खुद -ब- खुद जुड़ जाता है ....
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~



Wednesday, May 01, 2013

HAR FIKR KO DHUEIN MEIN UDATA CHALA GAYA .../ हर फ़िक्र को धुँए में उड़ाता चला गया ...




Kolkata mein nayi sarkar ke ate hi niyam banaya gaya ki har traffic signal pe Gurudev Rabindranath Tagore ke geet bajaye jayenge ,public address system ke liye jo loudspeaker lagaye gaye hain unse ...uddeshya ye ki rahgeeron ko tatha thake- hare pareshaan vahanchalakon ko thodi rahat milegi...nek khayal...dhanya ho ye gana select karne wale...dhajjiyaan udake rakh di gurudev ki......barsaat mein garmi ka, chait ke mahine mein baisakhi ka....sawan  mein sharad kal ka....kisi janemane hasti ki mrityu pe harshollas ka gana... .ityadi...
Jab ye bhi sah liya janata ne to ab sarkar kahti hai cigarette pijiye taki tax ke paise se Sharadha group walon ka kuchh bhala ho jaye....Khush hain bande...gharwale mana karein bhi to kaise !! Rajya ke sarvochcha neta ne hami bhari hai ab to... loudspeaker kharab ho gaye hain , aur Guru Rabindranath ji ne bhi cigarette jaise vishay par koi kavita nahin likhi...geet nahi racha ...
Ab to har traffic signal pe 'Hum Dono'  ka ye gana bajna chahiye 'Main zindagi ka saath nibhata chala gaya...Har fikr ko dhuein mein udata chala gaya'...

कोलकाता  में नयी सरकार के आते ही नियम बनाया गया कि हर ट्रैफिक सिग्नल पे गुरुदेव रविंद्रनाथ टैगोर के गीत बजाये जायेंगे  ...public address system के लिए जो loudspeaker लगाये गए हैं उनसे ....उद्देश्य ये की राहगीरों को तथा थके-हारे परेशान वाहनचालकों को थोड़ी राहत मिलेगी ....नेक ख़याल ....पर धन्य हों ये गाना select करने वाले ......धज्जियां उड़ाके  रख दी गुरुदेव की ...बरसात में गर्मी का ...चैत के महीने में बैसाखी का ....सावन में शरद काल का  ....किसी जानेमाने हस्ती की मृत्यु पे हर्षोल्लास का गाना इत्यादि .......
जब ये भी सह लिया जनता ने तो अब सरकार कहती है सिगरेट पीजिये ताकि टैक्स के पैसे से  Sharadha group वालों का कुछ भला हो जाये ...खुश हैं बन्दे ....घरवाले मना करें भी तो कैसे !! राज्य के सर्वोच्च नेता ने हामी भारी है अब तो ........loudspeaker खराब हो गए हैं , और गुरुदेव ने सिगरेट जैसे विषय पर कोई कविता नहीं लिखी ...कोई गीत नहीं रचा .....
अब तो हर ट्राफिक सिग्नल पे 'हम दोनों ' का  ये गाना बजना चाहिए -
'मैं ज़िन्दगी का साथ निभाता चला गया ...
हर फ़िक्र को धुँए में उड़ाता चला गया '.....

(image courtesy- google)

Wednesday, April 17, 2013

YADON KE RANG.... / यादों के रंग ...........


Maine apne shabdon ko pankh de diye to pahle se hi betaab,ab aise udne lage manoN titli hoN,ya phir koi panchhi….nahin titli. …Chanchal man aur mastishk ki parikalpana ko motiyon ki tarah dhage mein pirona asaan hai kya? Oopar se shabdoN ka yeh awarapan,kabhi indradhanush ke rang chheen late hain to kabhi sooraj ki tapish.aaj to inhone sari seemaon ko tod diya.le aye hain purani yadon ke rang,sahej kar , apne sundar paroN mein……..tewar toh inke aise hain manoN mujh par ehsaan kar rahe hoN.
Kuchh yadon ko maine kagaz par sajakar, uski kashti banakar,baha diya hai nadiya mein…….kashti tum tak pahunch gayi toh kuch pal tum bhi jod dena ....aur kahin majhdhaar kho gayi toh yahi samajh loongi ki awara shabdon ki awara yadein, kashti unka bojh nahin dho payi….


PIC COURTESY GOOGLE

मैंने अपने शब्दों को पंख दे दिए तो पहले से ही बेताब , अब ऐसे उड़ने लगे मानों तितली हों , या फिर कोई पंछी ....नहीं तितली ........चंचल मन और मस्तिष्क की परिकल्पना को मोतियों की तरह धागे में पिरोना आसान है क्या ? ऊपर से शब्दों का यह आवारापन , कभी इन्द्रधनुष के रंग छीन लाते हैं तो कभी सूरज की तपिश . आज तो इन्होंने सारी  सीमाओं को तोड़ दिया। ले आयें हैं पुरानी यादों के रंग ,सहेज कर , अपने सुन्दर परों में .......तेवर तो इनके ऐसे मानों मुझ पर एहसान कर रहे हों .
कुछ यादों को मैंने कागज़ पर सजाकर , उसकी कश्ती बनाकर, बहा दिया है नदिया में .......कश्ती तुम तक पहुँच गयी तो कुछ पल तुम भी जोड़ देना ........और कहीं मझधार खो गयी तो यही समझ लूंगी की आवारा शब्दों की आवारा यादें , कश्ती उनका बोझ नहीं ढो  पाई  ..............

Thursday, March 07, 2013

BASANTI HAWA / बसंती हवा

Chanchal,natkhat, basanti hawa aur suraj ki kirnon ne jab neend se jagaya to yah ehsaas hua ki subah ho chuki hai ...neend se jagte hi itna ujiyara !! sambhavat: us ummeed ki kiran jaisa jo hatasha aur na-ummedgi ke doosre chhor par khadi rahti hai hamare hi intzaar mein ....ujwal , snigdh, ashaapoorn

ast vyast si zindagi ko sametne ke liye aise hi roshni ki to zaroorat hoti hai hamein .....guzre hue din ki thakawat bhulakar naye sfoorti ke saath naye din ki shuruaat asaan bana deti hai prakriti...apne adbhut sparsh se.............

PIC-GOOGLE

चंचल, नटखट ,बसंती हवा और सूरज की किरणों ने जब नींद से जगाया तो यह एहसास हुआ कि सुबह हो चुकी  है .........नींद से जागते ही इतना उजियारा  !! संभवत: उस उम्मीद की किरण जैसा ,जो हताशा और ना-उम्मीदगी के दूसरे छोर पर खड़ी रहती है हमारे ही इंतज़ार में ......उज्वल, स्निग्ध, आशापूर्ण

अस्त व्यस्त सी ज़िन्दगी को समेटने  के लिए ऐसी ही रौशनी की तो  ज़रुरत होती है हमें ...गुज़रे हुए दिन की थकावट भूला  कर नए स्फूर्ति के साथ नए दिन की शुरुआत आसान बना देती है प्रकृति ....अपने अद्भुत स्पर्श से .........

Sunday, July 29, 2012

BHARATVAASI AAJ BHI APNE HAATHON SE KHATE HAIN / भारतवासी आज भी अपने हाथों से खाते हैं .......

"अतिथि भगवान का रूप होता है , अपनी क्षमतानुसार उसकी आव-भगत करो "

भारत के किस परिवार में ऐसा नहीं सिखाया जाता है ?आज यही सीख हम भारतवासियों के लिए अपमानजनक  बन गयी.आप सबको ज्ञात होगा , अभी पिछले महीने ही अमरीकी महिला ओपराह विनफ्री भारत भ्रमण पर आयीं  थीं . उनका उद्देश्य बुरा नहीं था,आज के भारत की  एक छवि अपने अमरीकी दर्शकों के समक्ष रखने के लिए कुछ तथ्य संग्रह करने ही आयीं थीं .पर उन्होंने एक कुरुचिपूर्ण मंतव्य कर हम देशवासियों के आत्मसम्मान को ठेस पहुंचाई है .यहाँ से अपने देश लौट कर वह उक्ति करती हैं कि "भारतवासी आज भी अपने हाथों से खाते हैं!!"
ज़्यादातर विदेशियों की हमारे देश के बारे में यही धारणा है कि हमारी जनसँख्या का बड़ा हिस्सा गरीब है और बस्तियों में रहता है.हमारे देश में सबसे ज़्यादा भिखारी हैं.आज भी भारत का परिचय देते वक्त वो कहतें हैं कि इस देश में बंदरों का नाच दिखाकर और सांपों को बीन की  धुन पे नचाकर लोग जीविका उपार्जन करते हैं.बात काफी हद तक सच है ,परन्तु भारत का ये सिर्फ एक पहलू है .विशाल समुद्र में बूँद जैसा.हमारे देश में जितने वर्ण ,जाति,समुदाये ,और भाषा के लोग बसते हैं शायद ही और कहीं हो  या यूँ कहूँ है ही नहीं .हर एक प्रान्त में कई धर्म एवं भाषा के लोग एकसाथ रहते हैं.विविधता में एकता यही तो हम भारतवासियों की  खूबी है.परन्तु इन विदेशियों को तो आदत है हमारी हर अच्छी बात को नज़रंदाज़ करने की .
Danny Boyle ने कुछ दो एक वर्ष पहले एक फिल्म बनाई थी , Slumdog Millionaire.उन्होंने भी भारत के उस रूप का चित्रण किया जो गरीब है,पैसे कमाने के लिए बच्चों को जानबूझ कर भिखारी बना देता है,नाबालिग लड़कियों को गन्दी गलियों में व्यवसाय करने के लिए मजबूर करता है ,इत्यादि .एक फिल्म हमेशा जीवन के सच्चाई से प्रेरित होने के बावजूद ,अतिशयोक्ति का सहारा लेकर ही अपनी कहानी दर्शकों तक पहुंचाता है.पर ओपराह ने जो दिखाया वो चलचित्र नहीं था,भारत का चित्रण था.कोई हक नहीं बनता किसीका भी की  हमारी भावनाओं  को ठेस पहुंचाए.उनके आवभगत में पूरा बॉलीवुड शामिल था,बड़े से बड़े उद्योगपति ,पत्रकार ,लेखक प्रत्येक ने अपना सम्मान और प्यार उनको दिया.इस प्रेम का उन्होंने तिरस्कार किया और वो भी इतने बुरे ढंग से .
उनका वक्तव्य मूलतः मुंबई के उस हिस्से पर आधारित था जो १०/१० के कमरे में रहता है.उनको ये नहीं दिखा कि १०/१० के कमरे में रहने वाला परिवार कितना सुखी है.उसके पास टीवी है ,मोबाईल फोन है ,बच्चे अच्छे स्कूलों में पढ़ते हैं.टीवी पर मैंने जो देखा उसके अनुसार ओपराह एक बारह वर्षीय लड़की से कहती हैं कि उसकी माँ जो कह रही है उसका अर्थनिरूपण(interpretation) करे.माँ से जो प्रश्न वह पूछ रहीं थीं उसमे उनके दांपत्य जीवन से जुड़े प्रश्न भी थे.क्या यही है एक उन्नत देश के नागरिक की  शिक्षा?
मुंबई के चौल में रहने वाले लोग ही समूचे भारतवर्ष का असली परिचय नहीं हैं .और यदि हैं भी तो हमें तो इस बात पे ना तो कोई आपत्ति है और ना ही कोई परेशानी.बच्चा चाहे जैसा भी हो , माँ को सदैव अपना ही बच्चा ज़्यादा प्यारा लगता है.वह खुद चाहे कितना भी डांटे या मारे , यदि कोई दूसरा ऐसा करे तो तुरंत अपने बच्चे का पक्ष लेती है .और प्रत्येक संतान के पास उसकी अपनी माँ ही  विश्व की  सबसे सुंदर स्त्री होती है.हम भारतवासियों के साथ भी ऐसा ही है.हमारी भारत माँ जैसी भी है हमें प्राणों से भी प्यारी है.किसी को यदि हमारी माँ सुंदर नहीं लगती तो ना आये हमारे घर,ग्रहण ना करे हमारे घर का अन्न जल.पर ये कैसा शिष्टाचार,की आदर सत्कार के साथ उन्हें हमने घर में पनाह दी,उन्होंने अपना कार्य सम्पूर्ण किया और अपने देश लौट कर हमारे ही संस्कारों की चर्चा करें !!ये हमारी सहिष्णुता और विनम्रता जैसे गुण ही हैं जो हमने इस बात की इतिश्री कर दी .
हम अपने हाथों से खाते हैं , उन्हें आपत्ति है तो छूरी कांटे से खाएं .हमारे देश में माँ के हाथों से खाना खाने के लिए लोग तरस जाते हैं,माँ एक कौर खिला दे तो दिन अच्छा गुज़रता है ,ऐसा कई लोग मानते हैं.पर हम इन विदेशियों को क्यों समझाएं ये सब.हम भी अगर चाहें तो उनके संस्कारों की आलोचना कर सकते हैं , पर हमारा ज़मीर किसी प्रकार के कुत्सित मंतव्य का अधिकार नहीं देता .जिस देश की  वो नागरिक हैं वहाँ तो एक समय ऐसा भी था जब त्वचा के रंग के आधार पर चरम भेदभाव किया जाता था.ज़ाहिर है उन्होंने खुद और उनके समुदाये के लोगों ने तिरस्कार सहा  हो.हम भारतवासी आज भी ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों में गोरों के हाथों अपमानित होते हैं.कई लड़कों का खून तक हुआ है इस वजह से.पर हम इस मुद्दे को लेकर ज़्यादा सोचते ही नहीं हैं.अप्रासंगिक है ,पर कहना ज़रूरी है.हम खुद कितना साफ़ या गोरे रंग के भक्त हैं ये तो विज्ञापनों को देखकर पता चल ही जाता है.आजकल लड़के भी गोरेपन की साज सामग्रियों  का इस्तेमाल करने लगें हैं.विज्ञापन में दिखाते हैं कि गोरी लड़की के लिए नौकरी पाना या योग्य वर मिलना एक सांवली  लड़की से ज़्यादा आसान है.ऐसा मैंने सुना भी है कि अपने अप्रगुण(inefficiency) को गोरे रंग की आड़ में रख कई महिलायें अच्छे से अच्छे ओहदे पर टिकी भी  हुईं हैं .पर इन छोटी छोटी बातों को नज़रंदाज़ कर आगे बढ़ना ही भारत जैसे विशाल देश के लिये शोभायमान है .हमारे संस्कार ,हमारी आदतें हम किसी बाहर वाले के डर से बदल तो नहीं सकते.उन्होंने भारत की ऐसी तस्वीर सम्पूर्ण विश्व को दिखाकर पैसे भी कमा लिए और शोहरत भी हासिल कर ली,पर भारत का जो हिस्सा उनसे मोहब्बत करता था उनके विश्वास को ठेस पहुँचाया है.ईश्वर उन्हें सदबुद्धि दे,वरना हमारे द्वार तो सदैव खुले ही हैं, हम तो फिर उनका ऐसा ही आदर सत्कार करेंगे.हमारे संस्कार हमें यही सिखाते हैं कि दुश्मन यदि खुद चलकर तुम्हारे पास आये तो कम से कम एक गिलास पानी उसके समक्ष ज़रूर रखो .काश उन्होंने कभी हम भारतियों का खाना अपने हाथों से खाकर देखा होता !!


Monday, July 09, 2012

BETIYAAN - PARAYA DHAN !! / बेटियाँ - पराया धन !!

आँसूं बह रहे हैं देखो ,कोशिश किये बिन
शहनाई  और मौसिकी,गुलशन सा सजा  आँगन

बाबुल देखो लोग कह रहे , मैं  हूँ अमानत उनकी


शादी के बाद बेटियाँ पराया धन कहलाती  हैं....क्या कोई जानता  है किसने कहा था ये? एक शरीर एक स्थान  से दूसरे स्थान चला गया इसका मतलब पराया हो गया?आज कितने दिन महीने गुज़र गए हैं ,मैंने अपनी एक अलग सी दुनिया बसा ली है.मेरे इस छोटे से सुसज्जित घोंसले में मैं अपने पति और बेटे के साथ बहुत खुश हूँ.पर जब भी मेरी तबियत खराब होती है मुझे माँ  की याद आती है, गरम तेल का छींटा हाथ पे आकर गिरता है और  कोई नहीं होता जब  आसपास, जो बरनौल  लगा दे ,तब माँ की याद आती है,पिताजी से एक आईसक्रीम माँगती थी तो दो लाकर देते थे.तब कभी मैंने ये सोचा ही नहीं की वो अपने हिस्से की आईसक्रीम मुझे दे रहें हैं .

आज जब ये बातें मुझे समझ में आ गयी हैं तो मैं निरुपाय  हूँ.ऐसा नहीं की मैं किंकर्तव्यविमूढ़  हूँ,मैं उनसे बहुत दूर हूँ.किसीने कमरे से आवाज़ लगायी चाय बनाओ और मैं दौड़ कर  रसोईघर चली गयी ऐसा अब नहीं हो सकता.जिस दिन मेरी विदाई थी विभिन्न प्रकार के रोने के स्वरों में से छन के एक बात मेरे कानों तक पहुंची थी "कल से सुबह की पहली चाय कौन बनायगा?"रोज सुबह जब  चाय -कॉफी बनाती हूँ यह  प्रश्न ज़हन में हलकी सी ठक-ठक  करता  है .

मेरा बेटा जब अपने दोस्तों के साथ खेलता है मुझे बाबुल के घर बिताए बचपन के दिन याद आते है,उनके झगड़ों   में मैं अपना बचपन ढूँढती हूँ.जब दो भाई बहन खेलते हैं या झगड़ते  हैं मुझे अपने भाई बहन याद आते हैं.क्या मैं सचमुच परायी हो गयी हूँ?एक देह के स्थानांतरण से किसी चीज़ से लगाव कम नहीं होता इसका प्रमाण है मेरा हर पल ,हर छोटी सी घटना में स्मृतियों  का उमड़ के आना.
बचपन में किसने गुड्डे गुड़िया  का खेल ना खेला होगा! आज बार्बी से खेलते हैं हम तो रुई और पुरानी  साड़ियों से गुड़िया बनाते थे.उनके कपड़े सिलते थे.जब उनकी शादी होती थी माला में फूल भी खुद ही पिरोते थे .तब शायद समझते नहीं थे,सुई धागा हाथ में लिए माला पिरोने के लिए बेताब हमारा निष्पाप मन असल में उन सुनहरे पलों को ही तो पिरोता था.मैं तो आज भी उन जुही और गेंदे के फूलों की महक महसूस कर सकती हूँ.

विवाहपूर्व जितना भी समय हम स्त्रियाँ अपने मायेके में गुजारती हैं उन अनगिनत पलों का महत्व वास्तव में हम विवाहोपरांत ही समझ पातीं  हैं.माँ बाप किस प्रकार कठिन आर्थिक परिस्थितियों के बावजूद हमारी मुस्कान  की  खातिर हमारी इच्छाओं  को पूर्ण करते थे ये हम तब समझ पातीं  है जब खुद माँ बनती हैं.
मैं तो आज भी जब कोई कविता लिखती हूँ तो अपनी माँ से ठीक उसी बचपन वाली उत्सुकता से पूछती हूँ की उन्हें कैसी लगी .मैं  तो उनकी नज़रों में बड़ी हुई ही नहीं और ना होना चाहती  हूँ.
हम सबके भीतर  एक बच्चा है,उसे ज़िंदा रखना बहुत ज़रूरी है.अपने बच्चों को भी समझने के लिए हमें कई बार बच्चा बनना पड़ता है,बच्चों के साथ बच्चा बन जाने से उनकी  भावनाओं को समझना आसान हो जाता है .मेरी माँ भी तो ऐसा ही करती थीं ,मुझे समझने की कोशिश,पूर्ण धैर्य के साथ.बचपन में डाँट खाना ,मार खाना  सब स्वाभाविक है अगर सीमा उल्लंघन ना कर जाये तो.लिखते लिखते एक और बात याद आ गयी.मा जब डाँटती थीं तो रूठ कर मैंने उन्हें सौतेली भी कहा था.आज मेरा  बेटा ठीक यही अपशब्द कहता है जब मैं अपना धीरज खो बैठती हूँ.बहुत अचरज होता है!!

मेरे अपरिपक्व मस्तिष्क में इतनी क्षमता नहीं थी कि माँ के गुस्से का कारण समझ सकूं या उसके उत्पत्ति का स्त्रोत ढूँढकर समस्या का निदान कर सकूं.आज बहुत देर हो गयी है. वो अक्सर कहतीं थीं -'जब खुद  माँ बनोगी तब समझोगी माँ बनने की पीड़ा  क्या होती है'.
कहते हैं ना हर अच्छे वस्तु का मूल्य  उसके टूट जाने पर या छिन जाने पर ही ज्ञात होता है.माँ का प्यार भी एक ऐसा अमूल्य खज़ाना है.बेटियाँ कभी परायी नहीं होतीं.वास्तव में विवाह के पश्चात ही माँ और बेटी का रिश्ता मज़बूत  बनता  है.अपने जिस बाबूजी से वो शादी से पूर्व डरी सहमी रहती थी,कन्यादान के वक्त उसी पिता के आँसूं उसे उम्रभर  के लिए एक अदृश्य एवं मज़बूत धागे से बाँध देते  है.
भाई बहिन में अब झगड़े नहीं होते,बल्कि ससुराल में कोई कष्ट दे  तो बहिन की रक्षा करने भाई  दौड़ा चला आता है .

खुशनसीब होती हैं ऐसी बेटियाँ जो अपने संसार धर्म से वक्त निकाल कर ,गुरुजनों की सेवा करने में सक्षम होतीं  हैं.जो सेवा  नहीं कर पातीं वो भी बदनसीब नहीं होतीं.उनकी पूजा अर्चना और दुआ में उन्हें जन्म देने वाले ये दो अतीव सुन्दर मनुष्य अवश्य रहते हैं..........................

SOME OF MY FAVOURITE POSTS

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...