Followers

Saturday, November 08, 2014

NA KAVITA NA KAHANI / न कविता न कहानी...



Na kavita na kahani
Bas kuch shabd
Kuchh jatilta
Bolti hui khamoshi
Cheekhta hua soonapan.

Na kavita na kahani
Bas kuchh lafz
Kuchh uljhane
Kolahal mein chuppi
Bheed mein sannata.

Na kavita na kahani
Bas yun hi
Kuchh dil ka bojh
Ankhon se aansoo
Aansuon se syahi
Syahi se?
Na kavita, na kahani....

न कविता न कहानी
बस कुछ शब्द
कुछ जटिलता
बोलती हुई ख़ामोशी
चीख़ता हुआ सूनापन

न कविता न कहानी
बस कुछ लफ़्ज़
कुछ उलझनें
कोलाहल मेँ चुप्पी
भीड़ मेँ सन्नाटा

न कविता न कहानी
बस यूँ ही
कुछ दिल का बोझ
आँखों से आँसूं
आँसुओं से स्याही
स्याही से?
न कविता, न कहानी....


7 comments:

  1. Replies
    1. शुक्रगुज़ार हूँ सुमन

      Delete
  2. Piease translate it to Bengali. Nice poem with deep meaning.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you for the kind compliment.. will try to

      Delete
  3. चंद लफ्जों में नपी तुली बेहद खूबसूरती के साथ अंतर्वेदना को अभिव्यक्त करती सशक्त रचना के लिये अपर्णा बोस जी का आभार... शुभकामनाऐं.

    ReplyDelete
  4. चंद लफ्जों में नपी तुली बेहद खूबसूरती के साथ अंतर्वेदना को अभिव्यक्त करती सशक्त रचना के लिये अपर्णा बोस जी का आभार... शुभकामनाऐं.

    ReplyDelete
  5. चंद लफ्जों में अंतर्वेदना को अभिव्यक्त करती सशक्त रचना... आभार आपका.

    ReplyDelete

SOME OF MY FAVOURITE POSTS

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...