Followers

Friday, September 26, 2014

SHABD ... / शब्द....


Shabd....
Bikhre huye yahan wahan
kahin kisi kagaz pe,
kisi kitaab ke akhiri panne par,
daraj ke kisi kone mein.
Dubke huye, sahme huye,
kabhi yun hi kisi soch mein,
ek adh chai coffee mein bhi
chini ki tarah ghule huye...

Shabd....
Lamhon ke saath mit tey huye,
kabhi rasoi mein, kabhi balish pe,
kabhi kisi adhi kavita ka hissa,
kabhi kisi kahani ke adhurepan mein.

Shabd...
Ek toofan ko likhne ka zariya
bawandar hai, samandar hai.
Shabd hain toh tilasma hai,
shabd hain toh hum hain....

शब्द..
बिखरे हुए यहाँ वहाँ,
कहीं किसी कागज़ पे,
किसी किताब के आखिरी पन्ने पर,
दराज के किसी कोने में।
दुबके हुए, सहमे हुए,
कभी यूँ ही किसी सोच में,
एक आध चाय कॉफ़ी में भी
चीनी की तरह घुले हुए...

शब्द....
लम्हों के साथ मिटते हुए,
कभी रसोई में, कभी बालिश पे,
कभी किसी आधी कविता का हिस्सा,
कभी किसी कहानी के अधूरेपन में।

शब्द....
इक तूफ़ान को लिखने का ज़रिया,
बवंडर है, समन्दर है।
शब्द हैं तो तिलस्म है,
शब्द हैं तो हम हैं.......

( Daraj= drawer, Bawandar= tornado, whirlwind, Balish= pillow, Tilasma= magic... )

12 comments:

  1. सुंदर प्रस्तुति...
    दिनांक 29/09/2014 की नयी पुरानी हलचल पर आप की रचना भी लिंक की गयी है...
    हलचल में आप भी सादर आमंत्रित है...
    हलचल में शामिल की गयी सभी रचनाओं पर अपनी प्रतिकृयाएं दें...
    सादर...
    कुलदीप ठाकुर

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रगुज़ार हूँ।

      Delete
  2. शब्द है तो तिलस्म है, शब्द है तो हम है ......क्योंकि हर शब्द एक पुल है ...चाहे वो कितने भी विरोध मीं कहा या लिखा गया हो ..वो जोड़ता है ... खामोशी , संवाद और शब्द का अभाव है जो अलग करते है ...सुंदर शब्द ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस मूल्यवान टिप्पणी के लिए आभार सुनील जी।

      Delete
  3. शब्दों जितनी सुन्दर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया अनुषा जी।

      Delete
  4. एक आध चाय कॉफ़ी में भी
    चीनी की तरह घुले हुए...
    sundar shabd !

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार प्रीति जी।

      Delete
  5. Waah ! Shabd hai to hum hai wakayi bin shabd hai hi kya... Nazar ki baat samjhta koun hai aakhir... Bahut lajawaab !!

    ReplyDelete
  6. Waah ! Shabd hai to hum hai wakayi bin shabd hai hi kya... Nazar ki baat samjhta koun hai aakhir... Bahut lajawaab !!

    ReplyDelete

SOME OF MY FAVOURITE POSTS

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...