Followers

Monday, August 18, 2014

YAAD AATE HO... / याद आते हो.....


Yun hi ek jhonka guzar jata hai
tum yaad aate ho
yun hi almari se kuch girta hai
tum yaad aate ho

yadein chhupi hai jabin ki shiknon mein
yadein chhupi hain chehre ki silwaton mein
kuch aate hue palon mein
kuch jate hue palon mein
tum yaad aate ho

kabhi baraste hue mausam mein
kabhi pareshan karti umas mein
jab hoti hai sarsarahat patton ki
ya hote ho, bas inch bhar door hi
tum yaad aate ho...............










............... यूँ ही एक झोंका गुज़र जाता है
तुम याद आते हो
यूँ ही अलमारी से कुछ गिरता है
तुम याद आते हो


यादें छुपी हैं जबीं की शिकनों में
कभी बरसते हुए मौसम में
यादें छुपी हैं चेहरे की सिलवटों में
कुछ आते हुए पलों में
कुछ जाते हुए पलों में
तुम याद आते हो

कभी परेशान करती उमस में
जब होती है सरसराहट पत्तों  की
या होते हो, बस इंच भर दूर ही
तुम याद आते हो.





PIC COURTESY- ANWESHAN BOSE

SOME OF MY FAVOURITE POSTS

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...