Followers

Monday, June 30, 2014

KHAMOSHI..../ ख़ामोशी....



Likh aye thhe ham thodi khamoshi, kuch kavitayein, ret par,
na jane kyun use mitakar tum de gaye ek khali seep

Shayad nahin rakhna chahte ho kuchh bhi apne paas...khamoshi bhi nahin...




लिख आये थे हम थोड़ी ख़ामोशी, कुछ कवितायेँ, रेत पर,
न जाने क्यूँ उसे मिटाकर तुम दे गए एक ख़ाली सीप

शायद नहीं रखना चाहते हो कुछ भी अपने पास...ख़ामोशी भी नहीं...


PIC BY APARNA BOSE (AT PURI- ODISHA)

Saturday, June 28, 2014

YE AATE ZAROOR HAIN..../ ये आते ज़रूर हैं....


Kabhi payal ki tarah,
khanakte huye.
Kabhi paon mein chhale liye,
aate zaroor hain.
Jagti ankhon mein,
Neend mein khoi ankhon mein,
aate zaroor hain.
Jane kyun ye sapnoN jaisi yadein,
ye yadon mein badalte sapne,
dastak dete hain mehman bankar.
Us waqt jab,
na hum so rahe hote hain,
na hum jag rahe hote hain,
hote hain bas,
ik anchinhe khumar mein,
ye aate zaroor hain.....

कभी पायल की तरह खनकते हुए,
कभी पाँव में छाले लिए,
आते ज़रूर हैं।
जागती आँखों में,
नींद में खोई आँखों में,
आते ज़रूर हैं।
जाने क्यूँ ये सपनों जैसी यादें,
ये यादों में बदलते सपने,
दस्तक देते हैं मेहमान बनकर।
उस वक़्त जब,
न हम सो रहे होते हैं,
न हम जग रहे होते हैं,
होते हैं बस,
एक अनचीन्हे ख़ुमार में,
ये आते ज़रूर हैं......




Wednesday, June 25, 2014

JAB SUNNA CHAHA …/ जब सुनना चाहा……




Jab sunna chaha 
us shakh pe pyase patte 
kya gunguna rahe hain
hamne sun liya

Jab sunna chaha 
dur kisi registaan ke 
befikra ret ki dastaan 
hamne sun liya

Jab sunna chaha 
tumhare bheetar dhadakta
gungunata hua dil
hamne sun liya

Jab sunna chaha 
hamne apne hi dil ko
tumhara naam pukarte hue
hamne sun liya...






जब सुनना चाहा
उस शाख पे प्यासे  पत्ते
क्या गुनगुना रहे हैं
हमने सुन लिया

जब सुनना चाहा
दूर किसी रेगिस्तान के
बेफ़िक्र रेत की दास्तान
हमने सुन लिया

जब सुनना चाहा 
तुम्हारे भीतर धड़कता 
गुनगुनाता हुआ दिल 
हमने सुन लिया 

जब सुनना चाहा 
हमने अपने ही दिल को 
तुम्हारा नाम पुकारते हुए 
हमने सुन लिया ..


pic courtesy - www.bbc.co.uk

Wednesday, June 18, 2014

KHAYAL.../ ख़याल.....



Auron ko samajhne mein yoon hi waqt zaya kiya hamne,
Khud ko samajh liya hota, toh bechainiyaan kam hoti hamari.....

औरों को समझने में यूँ ही वक़्त ज़ाया किया हमने,
ख़ुद को समझ लिया होता, तो बेचैनियाँ कम होतीं हमारी.....

Thursday, June 12, 2014

SATH SATH..../ साथ साथ...



Kabhi tum sawaal, kabhi hum.
Kabhi tum jawaab, kabhi hum.
Sawaalon ke jawab,
jawaabon pe sawaal,
Shayad yahi hai behna,
Sath sath, saans lete huye.....

कभी तुम सवाल, कभी हम.
कभी तुम जवाब, कभी हम.
सवालों के जवाब,
जवाबों पे सवाल,
शायद यही है बहना,
साथ साथ, साँस लेते हुए....

SOME OF MY FAVOURITE POSTS

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...