Followers

Thursday, March 07, 2013

BASANTI HAWA / बसंती हवा

Chanchal,natkhat, basanti hawa aur suraj ki kirnon ne jab neend se jagaya to yah ehsaas hua ki subah ho chuki hai ...neend se jagte hi itna ujiyara !! sambhavat: us ummeed ki kiran jaisa jo hatasha aur na-ummedgi ke doosre chhor par khadi rahti hai hamare hi intzaar mein ....ujwal , snigdh, ashaapoorn

ast vyast si zindagi ko sametne ke liye aise hi roshni ki to zaroorat hoti hai hamein .....guzre hue din ki thakawat bhulakar naye sfoorti ke saath naye din ki shuruaat asaan bana deti hai prakriti...apne adbhut sparsh se.............

PIC-GOOGLE

चंचल, नटखट ,बसंती हवा और सूरज की किरणों ने जब नींद से जगाया तो यह एहसास हुआ कि सुबह हो चुकी  है .........नींद से जागते ही इतना उजियारा  !! संभवत: उस उम्मीद की किरण जैसा ,जो हताशा और ना-उम्मीदगी के दूसरे छोर पर खड़ी रहती है हमारे ही इंतज़ार में ......उज्वल, स्निग्ध, आशापूर्ण

अस्त व्यस्त सी ज़िन्दगी को समेटने  के लिए ऐसी ही रौशनी की तो  ज़रुरत होती है हमें ...गुज़रे हुए दिन की थकावट भूला  कर नए स्फूर्ति के साथ नए दिन की शुरुआत आसान बना देती है प्रकृति ....अपने अद्भुत स्पर्श से .........

2 comments:

  1. बहुत ही बढ़िया



    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार यशवंत जी

      Delete

SOME OF MY FAVOURITE POSTS

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...